Posted On by &filed under राष्ट्रीय.


गुर्दे में पथरी वाले रोज़ेदार शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा बनाएं रखें : डॉक्टर

गुर्दे में पथरी वाले रोज़ेदार शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा बनाएं रखें : डॉक्टर

गुर्दे में पथरी समेत विभिन्न समस्याओं से जूझ रहे मुस्लिम समुदाय के लोगों के लिए बिना एहतियात के इस भीषण गर्मी में रोजा रखना परेशानी का सबब बन सकता है। डॉक्टरों का कहना है कि शरीर में पानी की कमी से गुर्दे में जटिलाएं आ सकती हैं।

डॉक्टरों के मुताबिक, जिन लोगों के गुर्दें में पथरी है वे अव्वल तो रोजा रखने से बचें अगर फिर भी वे रोजा रखते हैं तो उन्हें भरपूर पानी पीना चाहिए नहीं तो उनकी पथरी का आकार बढ़ सकता है और गुर्दे पर सूजन आ सकती है। इसके अलावा शुरूआती स्तर पर गुर्दे की समस्याओं से पीड़ित कुछ सावधानियों के साथ और दवाइयों का सही तरीके से नियमन करके रोजा रख सकते हैं, लेकिन जिनका गुर्दा मध्यम स्तर का या एडवांस स्तर का क्षतिग्रस्त है तो ऐसे लोगों को रोजा रखने पर जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है।

राष्ट्रीय राजधानी के फोर्टिस इंस्ट्टियूट ऑफ रेनल साइंस एंड ट्रांसप्लांट के निदेशक और प्रमुख डॉ संजीव गुलाटी ने ‘भाषा’ से कहा, ‘‘जिन लोगों के गुर्दे में पथरी है, उन्हें हम रोजा नहीं रखने की सलाह देते हैं और फिर भी वे रोजा रखते हैं तो हम उन्हें सलाह देते हैं कि वे भरपूर पानी पिएं, नमक का कम से कम सेवन करें, नारियल पानी पिएं और काजू से परहेज करें।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे लोगों और जिनके गुर्दे में पहले कभी पथरी थी तो उन्हें सेहरी से पहले डेढ़-दो लीटर पानी पीना चाहिए और इफ्तार के बाद दो-ढाई लीटर पानी पिएं तो वे सुरक्षित हैं।’’ डॉ गुलाटी ने कहा कि जो लोग गुर्दे की पथरी की समस्या से जूझ रहे हैं वे पानी का एहयतियात नहीं करेंगे तो उनके गुर्दे में मौजूद पथरी का आकार बढ़ सकता है या एक और पथरी बन सकती है।

उन्होंने कहा कि जिन लोगों के गुर्दे से पथरी निकल गई है वे भी जरूर एहतियात बरतें क्योंकि उनके शरीर में पथरी बनाने वाले कारक हैं और पानी की कमी से पथरी फिर से बन सकती है।

मैक्स स्मार्ट सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के डॉ सुदीप सिंह सचदेव ने कहा कि जिन्हें गुर्दे की बीमारी एडवांस स्तर पर है उन्हें हम रोजा रखने की बिल्कुल सलाह नहीं देते हैं।

उन्होंने कहा कि जो लोग शुरूआती स्तर की गुर्दे की बीमारी से जूझ रहे हैं वे अपने शरीर में पानी की उचित मात्रा को बनाए रखें और इस तरह से वे रोजा रख सकते हैं। पानी पर्याप्त मात्रा में बनाए नहीं रखने पर उन्हें दिक्कत हो सकती है।

( Source – PTI )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *