जारी है काले कारोबार पर कब्ज़े की ज़ंग

उत्तम मुखर्जी
झारखण्ड के धनबाद जिले के कतरास कोयलांचल की घटना है।रात के करीब 8.15 बज रहे थे। कतरास-राजगंज रोड पर चहल-पहल थी। राजस्थानी समाज भवन के सामने स्थित चाय दुकान पर एक बाइक रूकती है। बाइक से उतरकर एक युवा ने चाय दुकान पर सिगरेट पी रहे नीरज तिवारी को गालियां देता है। फिर पिस्तौल निकालकर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर देता है। तकरीबन पंद्रह राउंड गोलियां चलती हैं। नीरज के साथ खड़े उसके दोस्त रौनक गुप्ता और रोहित गुप्ता को भी गोलियां लगती हैं। अस्पताल में नीरज दम तोड़ देता है। घायलों का इलाज चल रहा है। रौनक को पैर में गोली लगती है, जबकि रोहित को हाथ में। दोनों खतरे से बाहर हैं। घटनास्थल यहां का मुख्य बाजार है, जहां से कतरास थाने की दूरी चंद गज है। अपराधी आराम से चलते बने, क्योंकि उन्हें न तो पुलिस का भय है और न ही कानून का।
वर्चस्व की जंगकोयलांचल ऐसे भी माफिया-संस्कृति के लिए बदनाम है। अभी हाल में एक जज को यहां ऑटो ने ऐसे धक्का मारा जैसे हत्या करने की ही योजना हो। जज साहब उत्तम आनन्द की मौत हो गई। पूरे देश में इस घटना की चर्चा हुई। सुप्रीम कोर्ट तक को हस्तक्षेप करना पड़ा। फिलहाल सीबीआई मामले की जांच कर रही है।
अपराधी बेख़ौफ हैं यहां…
दरअसल कोयलांचल में इधर कुछ वर्षों से अपराधियों की पौ बारह है। पहले राजनीतिक संरक्षणप्राप्त अपराधी सक्रिय होते थे। उनके गॉडफादर पॉलिटिशियन होते थे।अब गैंगस्टरों ने खुद कमान संभाल लिया है। काली कमाई के हिस्से में पुलिस के निचले तबके के कई अधिकारी शामिल होते हैं। सो ऐसे लोगों को प्रोत्साहन मिलता गया। सार्वजनिक उद्यम की कोयला कम्पनी BCCL की अंदरूनी स्थिति अच्छी नहीं है। प्रोडक्शन टार्गेट पूरा करने के लिए कम्पनी ने आउटसोर्स का सहारा लिया। आउटसोर्स माइंस पर कब्ज़े के लिए प्रायः रोज दबंग और दागदार लोग रोज हंगामा कर रहे हैं। हर्ल में चैतूडीह स्थित केजरीवाल आउटसोर्सिंग पर दिन के उजाले में पुलिस की मौजूदगी में ही गोलियां चलाईं। बम चले। इसके पूर्व कनकनी स्थित राम अवतार माइनिंग आउटसोर्स के भूमिपूजन के समय गोली-बम चले।  केंदुआडीह में माइंस के सामने ही प्रोजेक्ट ऑफिसर की कार पर बम फेंका गया। लोयाबाद में पंकज नामक युवक को पार्टी में बुलाकर गोली मार दी गई। कुसुंडा,लोदना, झरिया सर्वत्र कोयले के ठिकाने गोली-बम से थर्रा रहे हैं। पुलिस FIR ज़रूर दर्ज करती है लेकिन कोई बड़ा एक्शन नहीं होता है।
नीरज तिवारी सूरज सिंह गिरोह के लिए काम कर चुका है
गोलीबारी में मारा गया नीरज तिवारी एक संभ्रांत परिवार से जुड़ा रहा। उसके पिता सूर्यकांत तिवारी स्कूल टीचर की सेवासे रिटायर हुए। हालांकि उसे लाइमलाइट में रहने की इच्छा थी। खूब पैसे चाहिए था।उस समय सूरज सिंह का नाम तेज़ी से कोलफील्ड में उभरा। कोयले के अड्डों से रंगदारी लेना उसका लक्ष्य था। सूरज ने प्रशासन की नींद उड़ा रखी थी। लगातार कोयले के ठिकानों पर गोली-बम चलते रहे। कई हत्याएं भी हुईं। राजनीतिक दल के लोग भी सहम गए थे। बाद में गैंगवार में वह मारा गया।नीरज तिवारी सूरज के लिए काम करता था। बाद में वह विवादास्पद गांजा तस्करी में भी जेल गया। फिर जिले के तत्कालीन SSP किशोर कौशल के समय वह पुलिस के लिए इनफॉर्मर का काम शुरू किया। सूरज सिंह का क्लू भी वह पुलिस को देता रहा। बदले में कोयले का डिपो व काले कारोबार की भी छूट उसे मिली।वह गैंग के नए लड़कों के बीच फ़ैक्टर बन गया। कल की घटना में घायल रौनक गुप्ता भी उसका दोस्त है। हालांकि इधर रौनक गुप्ता रांची के जेल में बन्द शूटर अमन सिंह के लिए काम करता है।
कौन है अमन सिंह
अमन सिंह UP का रहनेवाला है। धनबाद के पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह की हत्या में उसकी गिरफ्तारी हुई है। नीरज के चचेरे भाई पूर्व विधायक संजीव सिंह के इशारे पर नीरज की हत्या हुई ऐसा आरोप है। संजीव सिंह इस मामले मरण धनबाद जेल में बन्द है।अमन सिंह जब धनबाद जेल से गैंग को ऑपरेट करने लगे तो उसे रांची के होटवार जेल में शिफ्ट किया गया।नीरज सिंह की पत्नी पूर्णिमा सिंह वर्तमान में झरिया से कांग्रेस की MLA हैं।अमन सिंह अब जेल में रहकर वही काम कर रहा है जो कभी सूरज सिंह करता था। रौनक गुप्ता अमन को फीडबैक देता है। अमन एक्शन लेता है। अमन सिंह का आतंक इधर काफी बढ़ा है। कतरास में ही कोयला व्यापारी संजय लोयलका के यहां रंगदारी के लिए चिट्ठी भेजी। कारोबारी हाराधन मोदक के आवास के बाहर बम फेंके। दामोदा कोलियरी में गोली चलाई गई। इसके पूर्व अभय सिंह समेत कई के यहां गोलियां चलाई गईं। जमीन कारोबारी लाला की वासेपुर में हत्या कर दी गई। अंदर की बात चाहे जो भी इधर हर मामले में एक चिट्ठी डाली जा रही है जिसमें अमन सिंह की ओर से धमकी दी जाती है।कल की घटना में भी पुलिस से करीबी रिश्ता बना चुके नीरज तिवारी , उसके दोस्त व वर्तमान में अमन सिंह के करीबी रौनक गुप्ता व रोहित गुप्ता ने पहले शराब पी। फिर घटनास्थल पर सिगरेट पी रहे थे सभी कि शूटरों ने घटना को   अंजाम दिया। मृतक नीरज तिवारी के पिता सूर्यनारायण का कहना है कि रौनक गुप्ता ने ही अमन सिंह के कहने पर यह कांड किया। उनके बड़े बेटे की शिकायत पर ही रौनक गुप्ता एवं अन्य पर FIR दर्ज हुआ है।  इधर नए SSP संजीव कुमार ने  अमन सिंह के आतंक को खत्म करने के लिए एक्टिव हो गए थे कि अमन ने पुलिस के लिए बड़ा इंस्ट्रूमेंट बन चुके नीरज तिवारी को ही रास्ते से हटा दिया।मिनिरत्न कम्पनी BCCL की स्थिति अच्छी नहीं है। कोयले के सारे बड़े कारोबारी दूसरे राज्यों में कूच कर गए हैं। कोलफील्ड में जिस तरह काले कारोबार को लेकर गैंगवार बढ़ रहा है, इससे पूरी अर्थव्यवस्था चौपट होने का अंदेशा है। सरकार कोई ठोस कदम उठा भी नहीं रही है।

Leave a Reply

25 queries in 0.180
%d bloggers like this: