Posted On by &filed under राजनीति.


व्हाइट हाउस ने कहा है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आस्ट्रेलिया के साथ हुए शरणार्थी समझौते से ‘‘अत्यंत निराश’’ हैं। उसने यह संकेत दिया कि प्रशासन समझौते का पालन करेगा लेकिन हर प्रवासी की ‘‘कड़ी जांच’’ की जाएगी।

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने इस कदम के लिए पूर्ववर्ती ओबामा प्रशासन पर निशाना साधते हुए कहा कि नए राष्ट्रपति पूर्ववर्ती प्रशासन द्वारा किए गए इस समझौते से ‘‘अविश्वसनीय रूप से निराश’’ हैं।

बाद में यह पूछे जाने पर कि क्या समझौता बरकरार रहेगा, ट्रंप ने कहा, ‘‘देखेंगे कि क्या होता है।’’ आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल ने कल कहा था कि ट्रंप प्रशांत देशों नाउरू एवं पापुआ न्यू गिनी में अपतटीय हिरासत केंद्रों में रह रहे 1,250 शरणार्थियों को स्वीकार करने के समझौते को लेकर प्रतिबद्ध हैं।

अमेरिका के राष्ट्रपति ने इस मामले पर कथित रूप से नाखुश होने के बाद टर्नबुल के साथ फोन पर हो रही बातचीत को बीच में ही रोक दिया था। उन्होंने बाद में ट्विटर के माध्यम से इस समझौते को ‘‘मूखर्तापूर्ण सौदा’’ करार दिया था।

ट्रंप ने एक समारोह में संवाददाताओं से कहा कि पूर्ववर्ती प्रशासन के उठाए कदमों का सम्मान किया जाना चाहिए लेकिन उन पर सवाल भी उठाए जा सकते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘पूर्ववर्ती प्रशासन ने जो कुछ किया, आपको उसका सम्मान करना होगा लेकिन आप यह भी कह सकते थे कि आप यह क्यों कर रहे हैं?’’ ट्रंप ने कहा, ‘‘हमारा आस्ट्रेलिया में एक रख था, मेरे मन में आस्ट्रेलिया के लिए बहुत सम्मान है, मैं एक देश के रूप में आस्ट्रेलिया से प्रेम करता हूं लेकिन हमें तब समस्या हुई, जब पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि वह जेलों में बंद 1000 से अधिक अवैध प्रवासियों को देश में प्रवेश देंगे और वे उन्हें इस देश में लेकर आएंगे और मैंने केवल इतना कहा, ‘क्यों?’।’’ जारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *