दोहरे हत्याकांड में 18 दोषियों को उम्रकैद

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश, क़ानून, राष्ट्रीय

हमीरपुर जिले की एक अदालत ने सुमेरपुर कस्बे में बारह साल पहले हुए दोहरे हत्याकांड मामले में दोषी पाए गए चार सगे भाइयों सहित 18 लोगों को उम्रकैद की सजा सुनायी है । हर दोषी पर चालीस-चालीस हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया गया है। शासकीय अधिवक्ता शैलेन्द्र कुमार सक्सेना ने आज बताया कि एक… Read more »

उत्तर प्रदेश में लखीमपुर खीरी रहा सबसे ठंडा

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश, राज्य से, राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश में में कहीं कम तो कहीं ज्यादा कोहरे की परत छायी रही जबकि नेपाल सीमा से लगा लखीमपुर खीरी पिछले चौबीस घंटों में सबसे ठंडा रहा । मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि लखीमपुर खीरी में सबसे कम 5.8 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान दर्ज किया गया । अधिकारी ने बताया कि… Read more »

लखनऊ-वैष्णो देवी सीधी बस सेवा का पर्यटन पर होगा दूरगामी परिणाम : भाजपा

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश, राज्य से, राष्ट्रीय

भारतीय जनता पार्टी ने आज कहा कि लखनऊ से वैष्णो देवी तक सीधी बस सेवा से लाखों श्रद्धालुओं को तो सुविधा होगी ही, पर्यटन की दृष्टि से भी इस कदम के दूरगामी परिणाम होंगे। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा, ‘लखनऊ से वैष्णो देवी तक सीधी बस सेवा चलाने का प्रदेश सरकार… Read more »

जो जीत रहा है, वही सिकंदर है : योगी

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश, राजनीति, राज्य से, राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कहा कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनावों ने एक बार फिर संकेत दे दिया है कि नकारात्मक राजनीति से उबरकर विकास के प्रति रचनात्मक दृष्टि लेकर चलने की आवश्यकता है । योगी ने विधानसभा में कहा, ‘इन चुनावों ने एक बार फिर संकेत दिया है कि… Read more »

पुनर्मतगणना का अदालत से अनुरोध

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश, क़ानून

नगर पालिका परिषद हापुड़ के अध्यक्ष पद पर भाजपा प्रत्याशी से हारे निर्दलीय प्रत्याशी मनीष सिंह ने जिला अदालत में पुनर्मतगणना कराने की मांग वाली याचिका दायर की है। सिंह ने आरोप लगाया है कि प्रशासन ने गड़बड़ी करके उसे जबरन हराया और भाजपा प्रत्याशी को सत्ता के दबाव में जिताया है। उन्होंने जिला अदालत… Read more »

विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ा प्रश्नकाल

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश, राजनीति, राज्य से, राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र में प्रश्नकाल लगातार दूसरे दिन विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ गया । सदन की आज सुबह बैठक शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष राम गोविन्द चौधरी ने बिजली दरों में बढोतरी का मुद्दा उठाया । वह बढ़ी हुई कीमतें वापस लेने की मांग कर रहे थे । उनका कहना… Read more »

हंगामे भरी रही शीतकालीन सत्र की शुरुआत

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश, राजनीति, राज्य से, राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश विधान परिषद में शीतकालीन सत्र की शुरुआत आज हंगामे भरी रही। कानून व्यवस्था तथा कई अन्य मुद्दों को लेकर विपक्षी सदस्यों की नारेबाजी और शोरशराबे के कारण सदन की कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गयी। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सपा तथा कांग्रेस सदस्य कानून व्यवस्था, किसानों को खाद… Read more »

‘यूपी नहीं देखा तो इंडिया नहीं देखा’ पर्यटन विभाग की टैगलाइन: कुंभ 19 का लोगो भी जारी

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश, राज्य से, राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश सरकार ने पर्यटन विभाग की टैग लाइन ‘यूपी नहीं देखा तो इंडिया नहीं देखा’ तथा कुंभ 2019 का लोगो लांच किया है। राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि कुम्भ में लोगों की असीम आस्था है,यह आस्था पर आधारित विश्व का सबसे बड़ा श्रद्धालुओं का समागम है। कुम्भ की इस महत्ता के मद्देनजर यूनेस्को… Read more »

आरक्षण मुर्दाबाद के नारों से गूँज उठा इलाहाबाद 

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश

इलाहाबाद, जातिवादी आरक्षण के खि लाफ रविवार को ‘’स्वर्ण भारत परिवार’’ के सदस्यों और सभी आरक्षण  विरोधी संगठनों ने सड़कों पर उतरकर शक्ति प्रदर्शन किया और रैली निकालकर जातिवादी आरक्षण को समाप्त करने की मांग को बुलंद किया। जातिगत आरक्षण के विरोध में स्वर्ण भारत परिवार कई सालों से इसे समाप्त करने के लिए आंदोलन चला रहा है।   इनका मानना है कि  हर प्रकार के जातिगत आरक्षणको समाप्त करके सरकार को सिर्फ संरक्षण की निति अपनानी चाहिए और  वह संरक्षण हरेक गरीब को मिलना  चाहिए। फिर वह चाहे किसी भी धर्म या जाति का क्यों नहो। किन्तु  यदि इसका लाभ केवल एक ही वर्ग  उठाता है तो यह अन्याय और शोषण  का ही दूसरा रूप है। जिसका प् रतिकार हमारा पूरा स्वर्ण समाज करता है। स्वर्ण भारत परिवार के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीयूष पंडित का कहना  है कि डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने जब सविधान बनाया और जातिगत आरक्षण का प्रावधान किया था। तो उसे  उन्होंने केवल 10 वर्षों की खातिर बनाया था। उसके बाद जातिगत  आरक्षण की समीक्षा होनी चाहिए थी । आरक्षण जातिगत न होकर आर्थिक  होना था या समाप्त होना था।  10  वर्ष तो क्या ज़माना बीत गया। जा तिगत आरक्षण समाप्त तो क्या इस  पर समीक्षा तक नही हुई कि इससे  दलित गरीबों को क्या फायदा हुआ। पीयूष पंडित ने कहा कि इस जाति गत आरक्षण की वजह से सवर्ण जाति  के कितने ही योग्य बच्चों का भविष्य तो बर्बाद हुआ ही उन गरीब  दलितों के साथ तो और भीभद्दा मजाक हुआ।  जिनके नाम पर यह जातिगत आरक्षण  बनाया गया। वो बेचारे तो आज भी  वही अभावग्रस्त जिंदगी और पि छड़ी जाति का तमगा लेकर घूम रहे  हैं और जो शुरू से बड़ी-बड़ी गाड़ियों में घूमते थे, आज भी पीढ़ी द र पीढ़ी आरक्षण का लाभ उठा रहे हैं । तो क्या फायदा हुआ गरीब दलितों के उत्थान के लिए बनाये गए आरक् षणका..?? यह जातिगत आरक्षण देश का कोई भला नही कर रहा। जबकि  देश को गृह युद्ध की और ध केल रहा है। यही वजह है कि रोज  कोई न कोई जाति, देश में उपद्रव  करनेलग जाती है कि हमे भी आरक् षण चाहिए। इस उपद्रव में सरकारी  संपत्तियों का नुक्सान हो रहा … Read more »

तीन तलाक सम्बन्धी विधेयक के मसौदे पर सहमति जताने वाला पहला राज्य बना उत्तर प्रदेश

Posted On by & filed under उत्तर प्रदेश, राज्य से, राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने तीन तलाक को लेकर केन्द्र के प्रस्तावित विधेयक के मसौदे से सहमति व्यक्त की है। ऐसा करने वाली वह देश की पहली राज्य सरकार है। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में कल शाम हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में तीन तलाक पर प्रस्तावित विधेयक के मसौदे पर रजामंदी जाहिर की… Read more »