आत्ममंथन से व्यंग्यमंथन तक