रसगुल्ला युद्ध का मीठा समाधान

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

कल सुबह शर्मा जी पार्क में घूमने आये, तो उनके हाथ में कोलकाता के प्रसिद्ध हलवाई के.सी.दास के रसगुल्लों का एक डिब्बा था। उन्होंने सबका मुंह मीठा कराया और बता दिया कि सरदी बढ़ गयी है। अतः फरवरी के अंत तक सुबह घूमना बंद। इसलिए ये रसगुल्ला सुबह की सैर से विदाई की मिठाई है।… Read more »

 कतार में जीवन  … !!

Posted On by & filed under व्यंग्य

तारकेश कुमार ओझा ​ आज कल मनः स्थिति कुछ ऐसी बन गई है कि यदि किसी को मुंह लटकाए चिंता में डूबा देखता हूं तो लगता है जरूर इसे अपने किसी खाते या दूसरी सुविधाओं को आधार कार्ड से लिंक कराने का फरमान मिला होगा। बेचारा इसी टेंशन में परेशान हैं। यह सच्चाई है कि… Read more »

दिल्ली दरबार में स्मॉग का स्वैग

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

अमित शर्मा देश का दिल दिल्ली, कोहरे और धुंए के लिव इन रिलेशनशिप से प्रकटे “स्मॉग” रूपी हलाहल विष से संसद की कार्यवाही की तरह ठप्प पड़ा है। पर्यावरण विशेषज्ञो की माने तो दिल्ली में वायु की शुद्धता का स्तर इतना नीचे गिर चुका है कि वो आसानी से कोई भी राजनैतिक दल ज्वाइन कर… Read more »

दिन में तोड़ो, रात में जोड़ो

Posted On by & filed under व्यंग्य

परसों शर्मा जी के घर गया, तो चाय के साथ बढ़िया मिठाई और नमकीन भी खाने को मिली। पता लगा कि उनका दूर का एक भतीजा राजुल विवाह के बाद यहां आया हुआ है। मैंने उसके कामधाम के बारे में पूछा, तो शर्मा जी ने उसे बुलवाकर मेरा परिचय करा दिया। – क्यों बेटा राजुल,… Read more »

संस्कारो की पिच पर टीम इंडिया की बैटिंग

Posted On by & filed under व्यंग्य

अमित शर्मा अनादिकाल से संयममार्गी और बॉलीवुड तपस्वी श्री आलोकनाथ जी को संस्कार और संस्कारिता का प्रतीक बताया जाता रहा है, जिसे निर्विवाद रूप से तीनो लोको में स्वीकार और अंगीकार दोनों किया गया है। आलोकनाथ जी भले ही संस्कारो के अधिकृत धारक और वाहक हो किंतु संस्कारो की उत्पत्ति धर्म के गर्भ से हुई… Read more »

पधारो म्हारे देस जी… 

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

पिछले हफ्ते मैं शर्मा जी के घर गया, तो वे दोनों आंखें बंद किये, एक हाथ कान पर रखे और दूसरा ऊपर वाले की तरफ उठाये गा रहे थे, ‘‘पधारो म्हारे देस जी…।’’ कभी वे दाहिना हाथ कान पर रखते तो कभी बायां। कभी स्वर ऊंचा हो जाता, तो कभी अचानक नीचा। मेरी गाने-बजाने से… Read more »

मुख्य अतिथि बनने का सुख

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

मेहता जी एक सम्मानित व्यक्तित्व है जिसका एक मात्र उपयोग वे मुख्य अतिथि बनने में करते है। यह अनुमान लगाना कठिन है कि वे पहले से सम्मानित थे या फिर विभिन्न समारोह में मुख्य अतिथि बनने के बाद वे सम्मान-गति को प्राप्त हुए है।   मेहता जी तन मन और आदतन मुख्य अतिथि है। मुख्य… Read more »

वाह ताज 

Posted On by & filed under व्यंग्य

वाह ताज  ….. एक शहंशाह का श्वान प्रेम ! ….  ताज पर तकरार जारी। .. इक शहंशाह ने बनवा के हसीन ताज महल हम ग़रीबों की मुहब्बत का उड़ाया है मज़ाक  ….. प्यार की निशानी  ! ….. कैसा प्यार  ! …… जिसे पाने के लिए , उसके शौहर को क़त्ल करवाया ? फिर जा के… Read more »

हम काम से नहीं डरते 

Posted On by & filed under व्यंग्य

शर्मा जी बहुत दुखी हैं। बेटे का विवाह सिर पर है और मोहल्ले की सड़क है कि ठीक ही नहीं हो रही। छह महीने पहले पानी की लाइन टूट गयी। सारा पानी सड़क पर बहने लगा। भीषण गरमी के मौसम में पूरे मोहल्ले में तीन दिन तक हाहाकार मचा रहा। छुट्टियों के कारण अधिकांश लोगों… Read more »

गुरुगिरी मिटती नहीं हमारी

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

हमारा देश हमेशा से ज्ञान का उपासक रहा है और इस पर कभी किसी को कोई शक नहीं रहा है। ज्ञान के मामले में हम शुरू से उदार रहे है,केवल बाँटने में यकीन रखते है। ज्ञान की आउटगोइंग कॉल्स को हमने सदा बैलेंस और रोमिंग के बंधनो से मुक्त रखा है। हमने विश्व को शून्य… Read more »