माँ तुम धन्य हो

Posted On by & filed under महिला-जगत, समाज

संजय चाणक्य ‘‘ मातृ दिवस पर शुभकामनाओं के साथ ! दुनिया की सभी माँओं को समर्पित है यह कालम !! ’’ मै माफी चाहता हू उन सभी बुद्धिजीवियो और मनिऋषियों से ! जो ’’मां ’’शब्द पर लम्बा-चैडा भाषण देते है किन्तु मां का सम्मान नही करते। मै माफी का तलबगार हूँ  उन धर्मात्माओं  से जो… Read more »

“माता और मातृभूमि स्वर्ग अर्थात् सभी सुखों से बढ़कर है”

Posted On by & filed under महिला-जगत, समाज

मातृ दिवस के अवसर पर- मनमोहन कुमार आर्य, वैदिक धर्म और संस्कृति में माता का स्थान ईश्वर के बाद सबसे ऊपर है। इसका कारण है कि माता सन्तान को जन्म देती है और इसके साथ उसका पालन पोषण करने के साथ उसे सुशिक्षा एवं संस्कार भी देती है। यह गुण व देन सन्तान को माता… Read more »

मां जन्मदात्री ही नहीं, जीवन निर्मात्री भी

Posted On by & filed under महिला-जगत, समाज

ललित गर्ग- अन्तर्राष्ट्रीय मातृत्व दिवस सम्पूर्ण मातृ-शक्ति को समर्पित एक महत्वपूर्ण दिवस है, जिसे मदर्स डे, मातृ दिवस या माताओं का दिन चाहे जिस नाम से पुकारें यह दिन सबके मन में विशेष स्थान लिये हुए है। पूरी जिंदगी भी समर्पित कर दी जाए तो मां के ऋण से उऋण नहीं हुआ जा सकता है।… Read more »

शैलबाला की दुखद हत्या

Posted On by & filed under महिला-जगत, राजनीति

शैलबाला की दुखद हत्या डॉ. वेदप्रताप वैदिक हिमाचल प्रदेश के कसौली नामक पर्यटन-केंद्र में एक सरकारी अफसर की जिस तरह हत्या की गई, उससे अधिक दुखद और शर्मनाक घटना क्या हो सकती है। यह सरकारी अफसर थीं, शैलबाला शर्मा ! शैलबाला सर्वोच्च न्यायालय के उस फैसले को लागू करने के लिए सड़क पर उतरी थीं, जिसके अनुसार कसौली… Read more »

शाहजहांपुर की शेरनी के जज्बे को सलाम

Posted On by & filed under महिला-जगत, समाज

अनिल अनूप एक पंक्ति गुनगुना कर लिखना पड़ रहा है ये पंक्तियां शाहजहांपुर की बहादुर बिटिया पर बिल्कुल सटीक बैठती है “अंबे है मेरी मां जगदंबे हैं मेरी मां ,तू है मेरी मां—-। नारी और बेटी घर की देवी होती है ।नारी की सहनशीलता का कोई भी मूल्यांकन नहीं कर पाया है। एक स्त्री की… Read more »

कानून नहीं है श्रीदेवी के रास्ते की बाधा

Posted On by & filed under महिला-जगत, समाज

अन्नापूर्णा यह कहानी है धारवाड़ जिले के धारवाड़ तालुका में बसे बेलुरु ग्राम पंचायत की श्रीदेवी भिमप्पा तलवाड़ा की। श्रीदेवी बेलुरु पंचायत में पंचायत सदस्य के रूप में अपनी जिम्मेदारियां निभा रही हैं । श्रीदेवी दोनों ही बार इस पंचायत में सदस्य पद पर अनुसूचित जनजाति महिला की आरक्षित सीट पर चुन कर आई। पांचवीं… Read more »

देश में असुरक्षित स्त्री

Posted On by & filed under महिला-जगत, राजनीति

प्रमोद भार्गव कठुआ, उन्नाव, सूरत और राजस्थान में मासूम बलिकाओं और महिलाओं के साथ हुए दुष्कर्मो  के बाद पनपे जनाक्रोश के बाद केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने पाॅक्सो एक्ट में बदलाव का बड़ा फैसला लिया है। अब बारह साल से कम उम्र की बच्चियों से दुष्कर्म  करने वालों को फांसी की सजा का भी प्रावधान… Read more »

पंचायतों में महिला आरक्षण से ग्रामीण भारत में बदलाव का दौर’’ 

Posted On by & filed under महिला-जगत, राजनीति

लेखक – अशोक बजाज, स्थानीय इकाई के रूप में त्रि-स्तरीय पंचायत राज व्यवस्था प्रजातंत्र की सबसे लघु इकाई है । गांव स्तर पर ग्राम पंचायतें, ब्लाक स्तर पर जनपद पंचायतें तथा जिला स्तर पर जिला पंचायतें  कार्यरत है । प्राचीन काल से ही भारत के गांवों में पंचायतों का बहुत बड़ा महत्व रहा है, लोंगों… Read more »

क्या वाकई ब्रह्माण्ड को समझना आसान, पर महिला खुद ही एक रहस्य है?

Posted On by & filed under महिला-जगत

हाल ही में हमने एक महान वैज्ञानिक प्रोफेसर स्टीफ़न हाॅकिंग को खो दिया जो कि ब्रह्माण्ड की खोज में लगे हुए थे। स्टीफन हॉकिंग ने ब्लैक होल और बिग बैंग सिद्धांत को समझने में अहम योगदान दिया। उन्होंने दो विवाह किए। उस आधार पर नारी को लेकर उनका एक कथन अखबारों में प्रमुखता से छाया… Read more »

महिला सशक्तीकरण की प्रतिबद्धता

Posted On by & filed under महिला-जगत, समाज

डॊ. सौरभ मालवीय आज हर क्षेत्र में महिलाएं आगे बढ़ रही हैं। कोई भी क्षेत्र ऐसा नहीं है, जहां महिलाओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज न कराई हो। महिलाएं समाज की प्रथम इकाई परिवार का आभार स्तंभ हैं। एक महिला सशक्त होती है, तो वह दो परिवारों को सशक्त बनाती है। प्राचीन काल में भी महिलाएं… Read more »