विश्ववार्ता

तालिबानों पर जब अफ़ग़ानी नागरिकों को भरोसा नहीं तो दुनिया भरोसा कैसे करे ?

तनवीर जाफ़रीइस्लामी शरीया क़ानून वैसे तो सऊदी अरब सहित दुनिया के और भी अनेक देशों में लागू है। ऐसे लगभग...

आतंकवाद पर दोगली नीति रखने वाले देश व लोगों के लिए सबक है अफगान में बर्बर तालिबानी ताक़तों का पैर जमाना!

दुनिया के कुछ ताकतवर देशों व लोगों की बड़ी गलतियों की वजह से आज एकबार फिर अफगानिस्तान बर्बर आतंकी सगंठन...

हिंसक कट्टरवाद से पराजित विकसित समाज क्या करे_?

अंतत: अमेरिकी नेतृत्व में नाटो गठबंधन बीस वर्ष बाद अफगानिस्तान को कट्टरपन्थी तालिबानियों के हाथों में सौंपने को विवश हुआ...

अफगानिस्तान में अमेरिका के हारने की आखिर वजह क्या रही?

अफगानिस्तान को लंबे समय से सोवियत संघ/रूस, ब्रिटेन, अमेरिका, ईरान, सऊदी अरब, भारत और निश्चित रूप से पाकिस्तान से लगातार...

क्या अपनी फौज हटाने के साथ ही तालिबान के लिए रेड कारपेट बिछा रहा अमेरिका!

(लिमटी खरे) दुनिया के चौधरी अमेरिका के द्वारा अफगानिस्तान से सेना वापसी की घोषणा के बाद 04 मई को अफगानिस्तान...

तालिबान औऱ भारत के क्षद्म सेक्यूलरवादी

डॉ राघवेंद्र शर्माअफगानिस्तान में तालिबान राज से उपजे हालातों ने भारत के छद्म धर्मनिरपेक्षतावादियों की भूमिका पर गंभीर सवाल खड़े...

तालिबान से भारत सरकार सीधा संवाद क्यों नहीं करती ?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक अफगानिस्तान में अशरफ गनी सरकार गिर चुकी है लेकिन तालिबान की सरकार ने अभी तक औपचारिक सत्ता-ग्रहण...

महिलायें ही सबसे अधिक धार्मिक अतिवाद व रूढ़िवादिता का शिकार क्यों ?

                                                                                            निर्मल रानी  अफ़ग़ानिस्तान में तालिबानों द्वारा दो दशक बाद बलपूर्वक किये गये सत्ता नियंत्रण के बाद एक बार फिर...

24 queries in 0.386