सोवियत रूस में क्रांति का ऐसा हश्र क्यों हुआ?

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

डॉ. वेदप्रताप वैदिक रुस में हुई साम्यवादी सोवियत क्रांति को पूरे 100 साल हो गए।  इसे 7 नवंबर को मनाया जाता है लेकिन रुसी भाषा में इसे ‘अक्ताब्रिस्काया रिवलूत्सी’ याने अक्तूबर क्रांति कहते हैं। इस क्रांति को पिछले सौ साल की सबसे बड़ी घटना कहा जा सकता है। दुनिया के कई अन्य देशेां में भी… Read more »

चीन में दूसरे माओ का जन्म

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

डॉ. वेदप्रताप वैदिक   चीन में इस साल नए माओत्सेतुंग का जन्म हुआ है। माओ जितना ताकतवर नेता चीन में अब तक कोई और नहीं हुआ है। माओ के रहते ल्यू शाओ ची और चाऊ एन लाई प्रसिद्ध जरुर हुए लेकिन वे माओ के हाथ के खिलौने ही बने रहे। माओ के बाद चीन में… Read more »

उत्तर कोरिया के सनकी तानाशाह की घातक मंशा

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

संदर्भ-संयुक्त राष्ट्र संघ में उत्तर कोरिया के राजदूत किमयांग का परमाणु युद्ध छिड़ने का बयान प्रमोद भार्गव एक सनकी तानाशाह मानव समुदाय के लिए कितना खतरनाक हो सकता है, यह उत्तर कोरिया के स्वंयभू शासक किमजोंग उन ने तय कर दिया है। संयुक्त राष्ट्र संघ में उत्तर कोरिया के राजदूत किमयांग ने यह कहकर दुनिया… Read more »

ओबोर पर अमेरिका ने दिया चीन को झटका

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

संदर्भः-अमेरिका के राष्ट्रपति और रक्षामंत्री ने चीन की वन बेल्ट वन रोड के बहाने गुलाम कश्मीर पर जताई आपत्ति प्रमोद भार्गव   जून माह में वाशिंगटन में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात के बाद जारी संयुक्त घोषणा-पत्र में पहली बार चीन की ‘वन बेल्ट वन रोड‘ (ओबोर- नया नाम बेल्ट… Read more »

चीन की विस्तारवादी नीति पर भारतीय प्रतिकार

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

 डॉ. मयंक चतुर्वेदी डोकलाम क्षेत्र को लेकर चीन के विदेश विभाग की ओर से लगातार जिस तरह के बयान दिए जा रहे हैं, उससे यही लगता है कि चीन किसी भी सीमा तक जाकर इस क्षेत्र पर अपना कब्‍जा जमाने की मंशा रखता है। वह इन दिनों इसी कोशिश में लगा हुआ है‍ कि किसी भी… Read more »

भारत : बलोचिस्तान के लोगों के हित में आवाज़ उठायें

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

कूटनीति के क्षेत्र में भारतीय नेतृत्व द्वारा की गई अनेक भूलों में से एक भूल है बलोचिस्तान| यदि समय रहते हमने बलोचिस्तान की मदद की होती और 26 मार्च 48 को पाकिस्तान को इस स्वतंत्र तथा संप्रभु राष्ट्र को हथियाने से रोक दिया होता तो हम दक्षिण एशिया में कहीं अधिक मजबूती से खड़े होते… Read more »

ईश्वर ‘ड्रैगन’ को सद्बुद्घि दे

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

 राकेश कुमार आर्य  1962 में देश चीन के हाथों परास्त हुआ। तब हमारे तत्कालीन नेतृत्व ने अपनी भूलों पर प्रायश्चित किया और सारे देश को यह गीत गाकर रोने के लिए बाध्य किया-‘ऐ मेरे वतन के लोगो, जरा आंख में भर लो पानी।’….हम अपने उन शहीदों की पावन शहादत पर रो रहे थे-जिनके हाथों… Read more »

एक फॉन्‍ट की ताकत: जिसने एक सत्‍ताधीश को कुर्सी से उतार फेंका

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

कभी कवि रामधारी सिंह “दिनकर” ने कलम का महत्‍व बताते हुए लिखा था- दो में से क्या तुम्हें चाहिए कलम या कि तलवार  मन में ऊँचे भाव कि तन में शक्ति विजय अपार अंध कक्ष में बैठ रचोगे ऊँचे मीठे गान या तलवार पकड़ जीतोगे बाहर का मैदान कलम देश की बड़ी शक्ति है भाव… Read more »

नवाज के हटने से बढ़ेंगी भारत की मुश्किलें

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

भारत के शत्रु नम्बर वन पाकिस्तान में बड़े उलटफेर के बाद अब पनामा मामले में नवाज शरीफ को दोषी करार दिया गया है । इसके बाद उनका जेल जाना लगभग तय है। इससे भी सनसनी खेज खबर यह है कि नवाज की जगह पाकिस्तान के रक्षामंत्री ख्वाजा आसिफ को कार्यवाहक प्रधानमंत्री बनाया गया है। यह वही… Read more »

अंततः आईएसआईएस के स्वयंभू खलीफा के साम्राज्य का पतन |

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

लगातार आठ महीने तक युद्ध की आग झेलने के बाद शायद इराकी सैनिकों ने गुरुवार को राहत की सांस ली होगी, जब आईएसआईएस के साम्राज्य की राजधानी मानी जाने वाली मोसुल मस्जिद को नेस्तनाबूत करने के बाद उस पर कब्जा कर लिया गया | इसके साथ ही ईराकी प्रधान मंत्री ने स्वयंभू खलीफा के साम्राज्य… Read more »