कला-संस्कृति

यज्ञ में मन्त्रों से आहुति क्यों?

– शिवदेव आर्य                ‘यज्ञ’ शब्द यज देवपूजासंगतिकरणदानेषु धातु से नङ्प्रत्यय करने से निष्पन्न हुआ…

पान-बताशे से प्रसन्न होने वाले विवाहों के देवता-हरदौल लाला

आत्माराम यादव पीवलोक कथाओं में नियतिप्रधान, व्यक्तिप्रधान, समाजप्रधान एवं जातिप्रदान विशेषणों का आधिक्य देखने को मिलता है।…

डार्विन का सिद्धांत और दशावतारों की अवधारणा

संदर्भः केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री सत्यपाल सिंह का डार्विन के सिद्धांत पर दिया बयान-…