समय के दो पाट: कहां ये और कहां वो

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, विविधा, संगीत

समय के दो पाटों में से एक पाट पर हैं शास्‍त्रीय संगीत की पुरोधा गिरिजा देवी की प्रस्‍तुतियां और दूसरे पाट  पर हैं ढिंचक पूजा जैसी रैपर की अतुकबंदी वाली रैपर-शो’ज (जिसे प्रस्‍तुति नहीं कहा जा सकता)। समय बदला है, नई पीढ़ी हमारे सामने नए नए प्रयोग कर रही है, अच्‍छे भी और वाहियात भी,… Read more »

छठ पूजा 2017 कब , क्यों और  कैसे मनाएं ??

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

जानिए छठ पूजा का महत्त्व और छठ पूजा का पूजा विधान … छठ पर्व सूर्यदेव की उपासना के लिए प्रसिद्ध है। मान्यता है कि छठ देवी सूर्यदेव की बहन है। इसलिए छठ पर्व पर छठ देवी को प्रसन्न करने के लिए सूर्य देव को प्रसन्न किया जाता है।छठ हिंदू त्यौहार है जो हर साल लोगों… Read more »

गोवर्धन पूजा 20 अक्टूबर 2017 —

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म

जानिए क्या है शुभ मुहूर्त, कैसे करें पूजा– प्रिय पाठकों/मित्रों, हमारे देश भारत में हिन्दू पंचांगों के अनुसार कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन उत्सव मनाया जाता है |गोवर्धन को ‘अन्नकूट पूजा’ भी कहा जाता है| गोवर्धन पूजा आमतौर पर दिवाली के अगले दिन मनाया जाता है। लेकिन कभी-कभी तिथि के बढ़ने… Read more »

दुःख दारिद्र्य दूर करने व रूप प्राप्ति का अवसर नरक चतुर्दशी…!!!—

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म

आज बुधवार  (18  अक्टूबर 2017 ) को नरक चतुर्दशी, यम चतुर्दशी, नरक चौदस पर विशेष— कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी, यम चतुर्दशी, नरका चौदस का त्योहार मनाया जाता है। इस द‍िन को हुनुमान जयंती के रूप में भी मनाते हुए बजंरग बली की पूजा-अर्चना करते हैं। प्रचलित मान्यताओं के अनुसार… Read more »

प्रकृति के रूप में महालक्ष्मी

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म

संदर्भः- दीपावली के परिशिष्ट हेतु प्रमोद भार्गव समुद्र-मंथन के दौरान जिस स्थल से कल्पवृक्ष और अप्सराएं मिलीं, उसी के निकट से महालक्ष्मी मिलीं। ये लक्ष्मी अनुपम सुंदरी थीं, इसलिए इन्हें भगवती लक्ष्मी कहा गया है। श्रीमद् भागवत में लिखा है कि ‘अनिंद्य सुंदरी लक्ष्मी ने अपने सौंदर्य, औदार्य, यौवन, रंग, रूप और महिमा से सबका… Read more »

जानिए कैसे आज अपनी राशि के अनुसार ही करें खरीदारी, हमेशा साथ रहेगी खुशियां—

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म

  हर किसी के मन में होता है कि लक्ष्मीजी को कैसे प्रसन्न करें, कैसे घर में वैभव, स्वास्थ्य लाभ, सुख-समृद्धि और उन्नति के रास्ते खुल जाएं। आपको बताने जा रहे है धनतेरस पर यदि अपनी राशि के मुताबिक सामान खरीदें तो लक्ष्मी प्रसन्न हो जाती हैं। वैदिक /सनातन हिन्दू पंचांग के अनुसार दिवाली की… Read more »

परिवार व समाज की एकता का पर्व दिवाली

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, समाज

सुरेश हिन्दुस्थानी भारत के त्यौहारों की विशेषता यह है कि यह सामाजिक एकता के अनुपम आदर्श हैं। इसी भाव के साथ प्राचीन काल से यह पर्व हम सभी मनाते चले आ रहे हैं। वर्तमान में पर्वों का यह शाश्वत भाव आज भी प्रचलन में है। हम देखते हैं कि आजीविका के लिए घर से दूर… Read more »

दीपावली है लौकिकता और आध्यात्मिकता का अनूठा पर्व 

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, विविधा

ललित गर्ग दीपावली का पर्व ज्योति का पर्व है। दीपावली का पर्व पुरुषार्थ का पर्व है। यह आत्म साक्षात्कार का पर्व है। यह हमारे आभामंडल को विशुद्ध और पर्यावरण की स्वच्छता के प्रति जागरूकता का संदेश देने का पर्व है। यह अपने भीतर सुषुप्त चेतना को जगाने का अनुपम पर्व है। जिंदगी भी हमसे यही… Read more »

दिवाली  13 अक्टूबर 2017  के  दिन हैं खरीदी का महामुहूर्त—-

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म

इस वर्ष दिवाली 2017 पर खरीदी का सबसे बड़ा महामुहूर्त 13 अक्टूबर 2017 को है। इस दिन शुक्रवार होने से यह शुक्र पुष्य कहलाएगा। खरीदी के लिए लोगों को सुबह से शाम तक खूब समय मिलेगा। दीवाली से पहले आने वाला पुष्य सबसे खास माना जाता है। बाजार को भी काफी उम्मीद है। कारोबारियों की… Read more »

रामकथा की महत्ता विदेशों में

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, समाज

डा. राधे श्याम द्विवेदी ’नवीन’ रामकथा श्रीराम की कहानी है जो आज से हजारों साल पहले त्रेता युग में भगवान विष्णु के अवतार के रूप में प्रकट हुआ है। यद्यपि श्रीराम का जन्म भारत में श्रीअयोध्याजी की पावन भूमि में हुआ था। उनका प्रभाव भारत की अपेक्षा विश्व के अनेक देशों में विभिन्न रुपों में… Read more »