श्रीदेवी : एक लंबी अत्यंत सफल यात्रा का अचानक से अंत हो जाना

Posted On by & filed under विविधा, शख्सियत, सिनेमा

  भारतीय सिनेमा की सबसे लोकप्रिय अभिनेत्रियों में से एक दिग्गज अभिनेत्री श्रीदेवी का जन्म तमिलनाडु के शहर शिवकासी में 13 अगस्त 1963 को हुआ। उनके पिता का नाम अय्यपन और मां का नाम राजेश्वरी है। उनके पिता पेश से वकील और माँ ग्रहणी थीं। श्रीदेवी के पिता जहां तमिल थे तो वहीं मां तेलुगू… Read more »

 क्या भंसाली निर्दोष हैं?

Posted On by & filed under समाज, सिनेमा

26 जनवरी 2018, देश का 69 वाँ गणतंत्र दिवस, भारतीय इतिहास में पहली बार दस आसियान देशों के राष्ट्राध्यक्ष समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित, पूरे देश के लिए गौरव का पल, लेकिन अखबारों की हेडलाइन क्या थीं? समारोह की तैयारियाँ? विदेशी मेहमानों का आगमन और स्वागत? जी नहीं ! “देश भर में… Read more »

ओमपुरी भारतीय सिनेमा के एक मंझे हुए कलाकार थे

Posted On by & filed under शख्सियत, समाज, सिनेमा

ओमपुरी की प्रथम पुण्यतिथि 06 जनवरी 2018 पर विशेष महान कलाकार ओम पुरी का जन्म 18 अक्टूबर 1950 में हरियाणा के अम्बाला शहर में एक पंजाबी परिवार में हुआ। ओम पुरी के पिता भारतीय सेना में थे। अमरीश पुरी और मदन पुरी उनके चचेरे भाई थे। ओमपुरी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने ननिहाल पंजाब के… Read more »

पद्मावती फिल्म में जौहर का अपमान!

Posted On by & filed under समाज, सिनेमा

सुरेश हिन्दुस्थानी देश में सांस्कृतिक और ऐतिहासिक मूल्यों का उपहास उड़ाने का खेल लम्बे समय से चल रहा है। तथाकथित वामपंथी बुद्धिजीवी के दिमाग की उपज कहे जाने वाले इन उपहासों के पीछे मात्र यही भाव प्रदर्शित होता है कि जिनसे समाज को प्रेरणा मिलती है, उन्हें किसी प्रकार से मिटाया जाए और उनके प्रति… Read more »

मैंने देखी पद्मावती: सच्चाई क्या है ?

Posted On by & filed under विविधा, सिनेमा

डॉ. वेदप्रताप वैदिक फिल्म पद्मावती को लेकर आजकल जैसा बवाल मच रहा है, अफवाहों का बाजार जैसे गर्म हुआ है, वैसा पहले किसी भी फिल्म के बारे में सुनने में नहीं आया। बवाल मचने का कारण भी है। पद्मावती या पद्मिनी सिर्फ राजस्थान ही नहीं, सारे भारत में महान वीरांगना के तौर पर जानी जाती… Read more »

समय के दो पाट: कहां ये और कहां वो

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, विविधा, संगीत

समय के दो पाटों में से एक पाट पर हैं शास्‍त्रीय संगीत की पुरोधा गिरिजा देवी की प्रस्‍तुतियां और दूसरे पाट  पर हैं ढिंचक पूजा जैसी रैपर की अतुकबंदी वाली रैपर-शो’ज (जिसे प्रस्‍तुति नहीं कहा जा सकता)। समय बदला है, नई पीढ़ी हमारे सामने नए नए प्रयोग कर रही है, अच्‍छे भी और वाहियात भी,… Read more »

गोलमाल अगेन

Posted On by & filed under सिनेमा

फिल्म ‘गोलमाल अगेन” की समीक्षा —   मेरी रेटिंग–3/5 डायरेकटर : रोहित शेट्टी संगीत : अमाल मलिक, डीजे चेतस, एस. थमान अवधि       :       2 घंटा  31 मिनट कलाकार : अजय देवगन, अरशद वारसी, तुषार कपूर, श्रेयस तलपड़े, कुणाल खेमू, परिणीति चोपड़ा, तब्बू, संजय मिश्रा, जॉनी लीवर, प्रकाश राज, अश्वनी कालसेकर, मुरली… Read more »

कभी न बुझने वाली लौ हैं अमिताभ बच्चन…

Posted On by & filed under शख्सियत, समाज, सिनेमा

अमिताभ बच्चन हिन्दी फिल्मों के अभिनेता हैं। हिन्दी सिनेमा में चार दशकों से ज्यादा का वक्त बिता चुके अमिताभ बच्चन को उनकी फिल्मों से ‘एंग्री यंग मैन’ की उपाधि प्राप्त है। वे हिन्दी सिनेमा के सबसे बड़े और सबसे प्रभावशाली अभिनेता माने जाते हैं। उन्हें लोग ‘सदी के महानायक’ के तौर पर भी जानते हैं… Read more »

“रागदेश” जिसे अनसुना कर दिया गया

Posted On by & filed under सिनेमा

जावेद अनीस उग्र राष्ट्रवाद के इस कानफाडू दौर में राज्यसभा टेलीविजन ने “राग देश” फिल्म बनायी है जो पिछले 28 जुलाई को रिलीज हुई और जल्दी ही परदे से उतर भी गयी. वैसे तो यह एक इतिहास की फिल्म है लेकिन अपने विषयवस्तु और ट्रीटमेंट की वजह से यह मौजूदा समय को भी संबोधित करती… Read more »

 राष्ट्रीय खेल दिवस: खेलों में राजनीति का घालमेल

Posted On by & filed under खेल जगत, विविधा

हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के जन्मदिवस पर 29 अगस्त को आयोजित किया जाने वाला राष्ट्रीय खेल दिवस हमें यह आत्मावलोकन करने का अवसर देता है कि खेलों को पाठ्यक्रम,कैरियर और इनसे भी बढ़कर जीवन का एक हिस्सा बनाने हेतु हमारे प्रयास किस हद तक गंभीर रहे हैं। गतिविधियों के नाम पर इस दिन राष्ट्रपति… Read more »