गीता का कर्मयोग और आज का विश्व, भाग-62

Posted On by & filed under लेख, साहित्‍य

राकेश कुमार आर्य   गीता का दसवां अध्याय और विश्व समाज ”तुझे पर्वतों में खोजा तो लिये पताका खड़ा था। तुझे सागर मेें खोजा तो मां के चरणों में पड़ा था। सर्वत्र तेरे कमाल से विस्मित सा था मैं, मुझे पता चल गया तू सचमुच सबसे बड़ा था।।” ईश्वर को खोजने वाली दृष्टि होनी… Read more »

गीता का कर्मयोग और आज का विश्व, भाग-61

Posted On by & filed under लेख

राकेश कुमार आर्य  गीता का दसवां अध्याय और विश्व समाज सत्य है परमात्मा सृष्टि का आधार। उसके साधे सब सधै जीव का हो उद्घार।। वह परमपिता-परमात्मा सत्य है। सत्य वही होता है जो इस सृष्टि से पूर्व भी विद्यमान था और इसके पश्चात भी विद्यमान रहेगा, जो अविनाशी है। वह परमपिता परमात्मा अपने स्वभाव… Read more »

लानत की होम डिलीवरी

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

बत्रा जी , भौगोलिक और गणितीय दृष्टि से हमारे पड़ौसी है। उनसे हमारे संबंध उतने ही अच्छे है जितने भारत के संबंध पाकिस्तान से है। पाकिस्तान की तरह, बत्रा जी भी आए दिन सीज़फायर का उल्लंघन करते रहते है जिसका ज़वाब समय-असमय पर सर्जिकल स्ट्राइक के रूप में उन्हें मिलता रहता है। पूरे मौहल्ले में… Read more »

गीता का कर्मयोग और आज का विश्व, भाग-60

Posted On by & filed under लेख, साहित्‍य

राकेश कुमार आर्य   गीता का दसवां अध्याय और विश्व समाज शस्त्रों में वज्र मैं हूं, गायों में कामधेनु मैं हूं, प्रजनन में कामदेव मैं हूं, सर्पों में वासुकि मैं हूं। यहां श्रीकृष्णजी किसी भी जाति में या पदार्थादि में सर्वोत्कृष्ट को अपना रूप बता रहे हैं। सर्वोत्कृष्ट के आते ही छोटे उसमें अपने… Read more »

गीता का कर्मयोग और आज का विश्व, भाग-59

Posted On by & filed under साहित्‍य

राकेश कुमार आर्य   गीता का दसवां अध्याय और विश्व समाज ऐसी उत्कृष्ट श्रद्घाभावना के साथ जो लोग ईश भजन करते हैं-उनके लिए गीता का कहना है कि उन्हें मैं (भगवान) बुद्घि भी ऐसी प्रदान करता हूं कि जिसके द्वारा वे मेरे पास ही पहुंच जाते हैं। उन पर अपनी अनुकम्पा करने के लिए… Read more »

चित्रण चितेरा कर गया !

Posted On by & filed under लेख, साहित्‍य

चित्रण चितेरा कर गया, है भाव अपने ले गया; कुछ दे गया सा लग रहा, गा के वो गोमन रम गया ! गोपन में रस रच चल दिया, द्रष्टा रहे वृष्टि किया; चित की दशा समझा किया, बुधि की विधा को वर दिया ! वह व्याप्ति की बौछार में, संतृप्ति के अँकुर बोया; आलोक से निज लोक का, रास्ता दिखाया चल दिया ! रिश्ते बनाना जानता, किस्से में ना वह उलझता; अपनी ही द्युति द्रुति ढालता, अपना बनाए चाहता ! सपनों परे उर में धरे, ले ऊर्ध्व गति झकझोरता; है चोर ‘मधु’ का सखा मोहन, हिये हाँड़ी रख गया !

लहर ही ज़िन्दगी ले रही !

Posted On by & filed under कविता, साहित्‍य

लहर ही ज़िन्दगी ले रही, महर ही माधुरी दे रही; क़हर सारे वही ढल रही, पहलू उसके लिये जा रही ! पहल कर भी कहाँ पा रहा, हल सतह पर स्वत: आ रहा; शान्त स्वान्त: स्वयं हो रहा, उसका विनिमय मधुर लग रहा ! लग्न उसकी बनाई हुईं, समय लहरी पे सज आ रहीं; देहरी मेरी द्रष्टि बनी, सृष्टि दुल्हन को लख पा रही ! हरि के हाथों हरा जो गया, बनके हरियाली वह छा गया; आली मेरा जगत बन गया, ख़ालीपन था सभी भर गया ! अल्प अलसायी अँखियाँ मेरी, कल्प की कोख कोपल तकीं; क़ाफ़िले ‘मधु’ को ऐसे मिले, कुहक कोयल की हिय भा रही !

कोई भी नई चीज आ जाने पर पुरानी चीज पुरानी हो जाती है …………

Posted On by & filed under कहानी, साहित्‍य

दीपिका बात है 2011 की जब मैंने अपने जीवन मे किसी खास को पहला तोहफा दिया . हम पीजी की पढ़ाई कर रहे थे और हॉस्टल मे रहते थे. पैसा घर से ही आता था (खर्च का) और उसी मे सब कुछ देखना पड़ता था. मेरे किसी खास का जन्मदिन आ रहा था.प्लान करना शुरू कर दिया था कि क्या दे.  मेरी मदद करने… Read more »

गीता का कर्मयोग और आज का विश्व, भाग-58

Posted On by & filed under लेख, साहित्‍य

राकेश कुमार आर्य   गीता का दसवां अध्याय और विश्व समाज ”पत्ते-पत्ते की कतरन न्यारी तेरे हाथ कतरनी कहीं नहीं-” कवि ने जब ये पंक्तियां लिखी होंगी तो उसने भगवान (प्रकत्र्ता) और प्रकृति को और उनके सम्बन्ध को बड़ी गहराई से पढ़ा व समझा होगा। हर पत्ते की कतरन न्यारी -न्यारी बनाने वाला अवश्य… Read more »

गीता का कर्मयोग और आज का विश्व, भाग-57

Posted On by & filed under लेख, साहित्‍य

राकेश कुमार आर्य   गीता का नौवां अध्याय और विश्व समाज अन्य देवोपासक और भक्तिमार्गी पीछे हम कह रहे थे कि गीता बहुदेवतावाद की विरोधी है और एकेश्वरवाद की समर्थक है। यहां पुन: उसी बात को श्रीकृष्ण जी दोहरा रहे हैं, पर शब्द कुछ दूसरे हैं। जिन्हें सुनकर लगता है कि वे बहुदेवतावाद को… Read more »