कार्टून: संसद के 60 साल– गोपाल गोयल