.….जब औघड़-श्राप से मुक्त हुआ था काशी- राजघराना