मच्छड़ का फिर क्या करें