विवेकानंद की प्रासंगिकताः सार्धशती के समापन पर विशेष