वेदस्रोत से मानवीयमूल्य