लेखक परिचय

मनीष कुमार सिंह

मनीष कुमार सिंह

जन्मस्थली बहराइच,उत्तर-प्रदेश ! वर्तमान में फीरोज़ गाँधी इंजीनियरिंग कॉलेज , रायबरेली , उत्तर प्रदेश में कंप्यूटर साइंस परास्नातक में अध्यनरत ! शिक्षा,साहित्य,दर्शन और तकनीकी में रूचि ! संपर्क-8115343011

Posted On by &filed under गजल, साहित्‍य.


wait
जिंदगी में कोई भी मिठास न रही !!
धरती पे हर तरफ जलन है ,घुटन है !
बादलों में पहले सी बरसात न रही !!
जिंदगी का दर्द हम किससे कहें किसको सुनाएँ !
रिश्ते तो ऐसे जलें की राख न रही !!
हमारी दुनियां गुम हुयी चीखों में ,चीत्कारों में !
रब के पास भी खुशियों की सौगात न रही !!
बस इतना इल्म कर लो अंधेरें के रहनुमाओं !
आफताब के आने पर कोई रात न रही !!
ऐतबार किस पर करें इस शहर में हम ‘मनीष’ !
आदमी अब भरोसे वाली जात न रही !!

 

मनीष कुमार सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *