शोक संवेदना या बधाई संदेश‌

old women                       “अम्माजी के बारे में सुनकर बहुत दु:ख हुआ|शहर के बाहर था इसलिये आ नहीं पाया|”मैं श्याम भाई के निवास पर
उनकी माताजी की मृत्यु पर शोक संवेदना प्रकट करने पहुंचा था|
“किंतु उन्हें बहुत कष्ट था,आठ माह से पलंग पर पड़ी थीं”उन्होंने जबाब दिया|
” हमेशा चहकती रहतीं थीं,कितनी अच्छी बातें……सारगर्भित…कितना अपनापन‌ होता था उनकी बातों में,कितना स्नेह…”मैंने आगे कहना
चाहा|
“परंतु बहुत हल्ला करतीं थीं,दिन भर चाँव चाँव”वे बात काट कर बोले|
“उस कमरे की तो बात ही और थी जिसमें वे पूजा करती थीं,कितना पवित्र था वह कमरा ,अगरबत्ती की भीनी खुशबू,घंटा आरती,कितना मन भावन था वह दृश्य जब वह ॐ जय जगदीश हरे की  आरती गाती थीं”मैंने भावुक होकर कहा|
“वह तो ठीक है पर उस कमरे का उपयोग नहीं हो पा रहा था|अब पत्नी ने वहां ब्यूटी पार्लर खोल लिया है|”वह बोले|
मैं अवाक था और शायद गल‌ती पर भी|शोक संवेदना के बदले बधाई संदेश देना था उनकी मां की मृत्यु पर|

Leave a Reply

%d bloggers like this: