होली में मुहल्ले में, हल्ला है, गुल्ला है,

 रंग है,  भंग है,  छाछ है,  रसगुल्ला है.

 गुझिया है, पेडा , कचौड़ी, गुलगुल्ला है,

कीचड है, कांई है, रंग का बुलबुल्ला है.

                              पंडा नाचत भंग छान, छिपत न मुल्ला है,

                              बचत न कोई, कोई डर न खुल्लमखुल्ला है.

                              अंग में है  रंग , की रंग –  अंग घुल्ला है ,

                              काहे  की शराफत कौन दूध का धुल्ला है..

                             हुडदंग है, मृदंग है, नाचत सब संग है,

                             फरकत अंग, बरसत ज्यों रंग-रंग है .

                             उछाह है, उमंग है, अबीर ज्यों पतंग है,

                             तंग मन चंग और बहत रंग-गंग है….

Leave a Reply

%d bloggers like this: