bag
बस्ता कित्तो भारी दद्दा,
बस्ता कित्तो भारी|
लाद लाद कें कंधा थके,
भई बस्ता की बीमारी|
ब‌स्ता कित्तो भारी दद्दा,
बस्ता कित्तो भारी|

इत्ती सारीं ढेर किताबें,
लाद लाद ले जायें|
अपनो दु:ख हमईं जानत हैं,
का तुमखों समझायें|
पे पढ़बो मज़बूरी अपनी,
बस्ता है लाचारी|
ब‌स्ता कित्तो भारी दद्दा,
बस्ता कित्तो भारी|

बब्बा के रये बड्डे होकें ,
तुमे कलेक्टर बनने|
सबरे काम छोड़कें अब,
जी जान लगाकें पढ़ने|
तभई सफलता मिल पेहे,
जब झोंको ताकत सारी|
ब‌स्ता कित्तो भारी दद्दा,
बस्ता कित्तो भारी|

जे सबरे स्कूल मास्टर,
बने जान के दुस्मन,
हम जैसे बच्चन खों सम‌झत,
हैं बैसाखी नंदन|
ढो ढो कें जो बोझा इत्तो,
अकल गई है मारी|
ब‌स्ता कित्तो भारी दद्दा,
बस्ता कित्तो भारी|

हम बच्चन की इच्छा है,
के चार किताबें पढ़हें|
सत्य अहिंसा दया प्रेम,
पढ़कें सब जग सें लड़ हें|
इनईं चार पाठों सें तो,
हम सब पे परहें भारी|
ब‌स्ता कित्तो भारी दद्दा,
बस्ता कित्तो भारी|

Leave a Reply

%d bloggers like this: