लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under दोहे, साहित्‍य.


neta2पाँच बरस के बाद ही, क्यों होती है भेंट?

मेरे घर की चाँदनी, जिसने लिया समेट।।

 

ऐसे वैसे लोग को, मत करना मतदान।

जो मतवाला बन करे, लोगों का अपमान।।

 

प्रत्याशी गर ना मिले, मत होना तुम वार्म।

माँग तुरत भर दे वहीं, सतरह नम्बर फार्म।।

 

सत्ता के सिद्धान्त की, एक अनोखी बात।

अपना कहते हैं जिसे, उससे ही प्रतिघात।।

 

जनता के उत्थान की, फिक्र जिन्हें दिन रात।

मालदार बन बाँटते, भाषण की सौगात।।

 

घोटाले के जाँच हित, बनते हैं आयोग।

आए सच कब सामने, वैसा कहाँ सुयोग।।

 

रोऊँ किसके पास मैं, जननायक हैं दूर।

छुटभैयों के हाथ में, शासन है मजबूर।।

 

व्यथित सुमन हो देखता, है गुलशन बेहाल।

लोग सही चुन आ सकें, छूटेगा जंजाल।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *