08_2009_11-Kidsflyingkites-1_1250186406

गुन गुन धूप तोड़ लाती हैं,
सूरज से मिलकर आती हैं,
कितनी प्यारी लगें पतंगें,
अंबर में चकरी खाती हैं|

ऊपर को चढ़ती जाती हैं,
फर फर फिर नीचे आती हैं,
सर्र सर्र करतीं करती फिर,
नील गगन से बतयाती हैं|

डोरी के संग इठलाती हैं,
ऊपर जाकर मुस्काती हैं,
जैसे अंगुली करे इशारे,
इधर उधर उड़ती जाती हैं|

कभी काटती कट जाती हैं,
आवारा उड़ती जाती हैं,
बिना सहारे हो जाने पर,
कटी पतंगें कहलाती हैं|

तेज हवा से फट जाती हैं,
बंद हवा में गिर जाती हैं,
उठना गिरना जीवन का क्रम,
बात हमें यह समझाती हैं|

Leave a Reply

%d bloggers like this: