लेखक परिचय

डॉ. सीमा अग्रवाल

डॉ. सीमा अग्रवाल

लेखिका गोकुलदास हिंदू गर्ल्‍स कॉलेज, मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश के हिंदी विभाग में वरिष्‍ठ असिस्‍टेंट प्रोफेसर हैं।

Posted On by &filed under कविता.


आसमाँ सा ऊँचा उठकर,

झिलमिल सपनों में खो जाऊँ।

दीन-हीन की पीन पुकार,

एक बधिरवत् सुन न पाऊँ।

सागर-सी गहराई पाकर,

अपने सुख मेँ डूबूँ-उतराऊँ,

गम मेँ किसी के गमगीँ होकर,

आँसू भी दो बहा न पाऊँ।

तो, नहीं चाहिए ऐसी उच्चता,

और न ऐसी गहराई।

इससे तो मैं अच्छा हूँ,

अपनी जमीं पर ठहरा ही।

अपनी जमीं पर अपनों के संग,

सुख-दुख मिलकर बाटूँ।

पनप रही जो बैर की खाई,

प्यार से उसको पाटूँ।

-डॉ. सीमा अग्रवाल

2 Responses to “कविता/अपनी जमीं पर…”

  1. Seema Agrawal

    आदरणीय लक्ष्मीनारायण जी,आपको कविता पसंद आयी, इसके लिये आपको बहुत बहुत धन्यवाद ।
    Thanx..4 comment..

    Reply
  2. लक्ष्मी नारायण लहरे कोसीर पत्रकार

    LAXMI NARAYAN LAHARE KOSIR

    डा सीमा जी सप्रेम अभिवादन
    आपको हार्दिक बधाई ”””आपकी स्नेह भरी रचना पढ़ कर अच्छा लगा ”””””””””

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *