सतीश सिंह की पाँच प्रेम कविताएं

1-romantical-love-painting-photo

चुपके से

मैं तो चाहता था

सदा शिशु बना रहना

इसीलिए

मैंने कभी नहीं बुलाया

जवानी को

फिर भी

वह चली आई

चुपके से

जैसे

चला आता है प्रेम

हमारे जीवन में

अनजाने ही

चुपके से।

————

2.

याद

वैशाख के दोपहर में

इस तरह कभी छांह नहीं आती

प्यासी धरती की प्यास बुझाने

न ही आते हैं इस तरह शीतल फुहारों के साथ मेघ

इस तरह शमशान में शांति भी नहीं आती

मौत का नंगा तांडव करते

इस तरह अचानक शरद में शीतलहरी भी नहीं आती

कलेजा चाक कर दे इंसान का हमेशा के लिए

ऐसा ज़लज़ला भी नहीं आता इस तरह चुपचाप

जिस तरह आती है तुम्हारी याद

उस तरह कुछ भी नहीं आता।

—————————-

3.

झूठ

जी भर के निहारा

सराहा खूब

मेरी सीरत को

छुआ, सहलाया और पुचकारा

मेरे सपनों को

जब मैं डूब गया

तुम्हारे दिखाये सपनों के सागर में

मदहोशी की हद तक

तब अचानक!

तुम्हारा दावा है

तुमने नहीं दिखाये सपने

क्या तुम बोल सकती हो

कोई इससे बड़ा झूठ?

—————–

4.

स्मृतियां

तुम्हारे संग

कभी घंटों चुपचाप बैठकर

तो कभी घंटों बातें करके

सहज हो जाता था मैं

और जब तुम हंसती थी

तब खिल उठते थे

मेरे दिल के बाग में

हजार-हजार गुलाब एक साथ

तुमसे दूर हो कर

ये स्मृतियां शेष रह गई हैं

मेरे पास

तुम्हारी घरोहर बनकर

तुम्हारा

वो साथ बैठना

बातें करना,

रोना, हंसना;

रुठना, मनाना;

हर पल, हर क्षण

मुझे आभास कराता है

आज भी

तुम्हारे पास होने का

इसीलिए

बड़े जतन से संभाला है मैंने

तुम्हारे इस धरोहर को

क्योंकि

इससे मिलते ही

मन आनंदित हो जाता है

उमंग-उत्साह के रंग में

मैं सराबोर हो जाता हूं

पल भर के लिए

जीवन मेला सा बन जाता है

और मैं

एकबारगी

फिर से

सहज हो जाता हूँ

उसी तरह

जिस तरह

कभी तुमसे मिल कर होता था।

——————-

5.

याद करुंगा

जीने के लिए

जब भी प्रयास करुँगा

मैं तुम्हारी

यादों को याद करुँगा

आंखो ने सपने देखे थे

तुम्हें पाकर

होठों ने

मुस्काये थे

तुम्हें अपनाकर

अवसर दे

जब भी वक्त मुझे यह-

बार-बार यही अपराध करुँगा

जीने के लिए

जब भी…..

जब-जब

तेरे वायदे

याद दिलाते

तेरी काया

फैल जाती हो तुम

खुशबू बनकर

यहाँ नहीं,

वहाँ नहीं,

कहाँ नहीं

जाती हो तुम

मेरे संग

आंसू बनकर

फिर भी

मिले यही अवसर-

खुदी से यही फरियाद करुँगा,

जीने के लिए

जब भी….

रोना-हंसना, लड़ना-झगड़ना

बन कर आज

बरगद की छांव;

देती है मुझे

एक सुखद ठांव।

सुख का यह क्षण

लिए आ जाती हो

जब तुम दबे पांव;

बहुत पास लगती है

तुम्हारी यादों की गाँव।

ऐसे ही

आती रहो तुम

मेरे मन मस्तिष्क में

अविरल-अविराम।

कसम तुम्हारी

मरते दम तक

मैं तुम्हारा इंतजार करुँगा,

जीने के लिए

जब भी……

3 thoughts on “सतीश सिंह की पाँच प्रेम कविताएं

  1. बहुत ही सुंदर माला में शब्दों को पिरोया है सतीशजी आपने। ख़ास तौर पर ‘जिस तरह आती है तुम्हारी याद, उस तरह कुछ भी नहीं आता’ मन को भा गया। भविष्य में भी ऐसी ही रचनाओं की अपेक्षा है। कृपया बधाई स्वीकार करें। धन्यवाद

  2. बहुत ही सुन्दर और भावभीनी रचनायें हैं………..सभी एक से बढ़कर एक हैं.

Leave a Reply

%d bloggers like this: