‘आतंकियों की ईद’?