‘ईश्वरोपासना एवं अनिष्ट-चिन्तन-व्यभिचार’