दलीय टकराव के बजाय जनता की सुनें