मीडिया का पतन लोकतंत्र पर आघात