सामाजिक ‘राक्षस’ का शिकार