स्मित नयन विस्मृत बदन !