है गाँठ कोई पुरातन !