सोशल मीडिया का असर

शेयर कर लेते है,सारी दुनिया को सोशल मीडिया के द्वारा
शेयर नहीं कर पाते माँ-बाप से जिन्होंने दुनिया में उतारा

माफ़ कर देते है माँ-बाप,अपने बच्चों को,जो गलती करते बार बार
पर बच्चे माफ़ नहीं करते,माँ-बाप को जो गलती करते है एक बार

ये कैसे सोशल मीडिया है,जो अपनों से रहते है हम दूर
अपने घर में रहते हुये भी,हो जाते है अपनो से ही दूर

लगाते है काफी वख्त केवल, सोशल मीडिया पर हम सब
पर एक घंटा भी नहीं दे पाते जब रहते अपने घर हम सब

इस सोशल मीडिया से कारण हम कितने अनसोशल हो रहे 
अपने माँ-बाप को छोड़ कर गैरो से हम गप-शप कर रहे

सोशल मीडिया एक अभिशाप हो चूका है,आज इस समय पर
हम अपने पैरो कुल्हाड़ी मार रहे,नमक छिडक रहे है घाव पर

रस्तोगी और अधिक क्या लिखे ,इस सोशल मीडिया पर
हम अपने आप को खो रहे है सोशल मीडिया को पा कर

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: