सच्चा मित्र‌ poem
    झगड़ू बंदर ने रगड़ू,
    भालू से हाथ मिलाया|
    बोला तुमसे मिलकर तो,
    प्रिय बहुत मज़ा है आया|

                                   रगड़ू बोला हाथ मिले,
     तो मन भी तो मिल जाते|
     अच्छे मित्र वही होते,
      जो काम समय पर आते|

      कठिन समय पर काम नहीं,
      जो कभी मित्र के आता|
      मित्र कहां ? अवसर वादी,
      वह तो गद्दार कहाता|

Leave a Reply

%d bloggers like this: