बिल्ली को मौसी कहते हैं ,

और गाय को हम माता|

यही हमारे संस्कार हैं,

पशुओं तक से है नाता|

 

चिड़ियों को देते हैं दाना,

कौओं को रोटी देते|

प्यासों को पानी देने में,

हमको मज़ा बहुत आता|

 

यहाँ बाग में फूलों फूलों

हर दिन भँवरा मड़राता,

पेड़ लगा है जो आंगन में

वह भी तो गाना गाता|

 

देने वाले हाथ हमारे,

हमको देना ही आता|

पर जितना भी हम‌ देते हैं,

दुगना वापस आ जाता|

 

रोज हमारे घर आंगन में,

स्वर्ण सबेरा बिखराता|

रात चाँदनी जब खिलती है,

तुलसी चौरा मुस्कराता|

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: