लेखक परिचय

ऋषभ कुमार सारण

ऋषभ कुमार सारण

19 September, 1987 को सुजानगढ़, जिला –चुरू, राजस्थान में जन्म । राजस्थान से बाल्यकालीन विद्या हासिल की । राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक (B. Tech) की उपाधि । भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान मुंबई से स्नातकोतर (M. Tech) की उपाधि । वर्तमान में भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान मुंबई में डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी (Ph. D.) की पढाई चल रही है । राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर सम्मलेनों में लेख प्रकाशित ! लेखक की रिसर्च, साहित्य में बेहद रूचि । युवाओं की सकारात्मक विचारधारा का प्रशंसक ।

Posted On by &filed under कविता.


eyes ऋषभ कुमार सारण

कर जातें है, कतल वो,

नजराने तेरी आँखों के,

अफसाने तेरे उन लफ्जातों के,

आ जाती हो जब तुम, दरमियां मेरे उन सपनों के,

कर अहसास तेरे दामन का, एक लम्हा सा जी जाता हूँ !

मेरी इस तन्हाई में भी, यूँ बस जन्नत सी पा जाता हूँ !!

 

सुनता हूँ हर रोज, दुनिया की टेढ़ी मेढ़ी सी ये बातें,

करता तो हूँ, मैं आज भी इन लोगों से,

हर रोज यूँ अनजानी सी मुलाकातें,

पर यूँ रिश्तों की इस बारीकी में, यूँ उलझ सा जाता हूँ,

और यूँ इश्क की तमीजी में, मैं तो अपना ही बागी सा हो जाता हूँ !

 

देख लिए खूब मेने, गुबार यूँ कई भंवरों के,

पडोसी की बगिया में,

बदलते हुए रंग यूँ गिरगिटों के,

फूट रहे थे चाँद वहां, यूँ अँधेरे की उन जुगनुओ के,

सुन के पुकार जुगनुओ की, डर से यूँ दहल सा जाता हूँ,

और यूँ दुनिया के इन जंजालों को, देख यूँ सहम सा जाता हूँ !!

 

बस, नहीं रहना अब, मेरे को तेरे बिना

इस पार इन दहलीजो के,

ले जाऊंगा अपनी नाव, तेरे खातिर्,

उस पार, इस समंदर के

पर सुन के खबर एक फिर नए बवंडर की , मैं यूँ अन्दर से हिल सा जाता हूँ !

तू पकड़ लेना बस मेरा हाथ , अकेला यूँ इस तूफाँ में बह सा जाता हूँ !!

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *