आ रही है एक आवाज,देश की दसो दिशाओ से 

आ रही है एक आवाज,देश की दसो दिशाओ से
अगले चुनाव में बच कर रहना,इन झूठे नेताओ से

सौदे बाजी ये करते है,सत्ता को ये कब्जाने में
कुछ भी कर सकते है,कुर्सी को ये हतयाने में

तरह तरह के झूठे लालच देकर,जनता को बह्लायेगे
चुनाव जीत कर ये अपने घर से,जनता को बह्कायेगे

बाँट रहे है ये सारे देश को,धर्म,जाति ओर भाषाओ से
बँटना नहीं इन मुद्दों पर,बच कर रहना इन नेताओ से

लम्बे कुरते ओर पायजामा पहन कर,ये ओछी राजनीति करते है
जनता का उल्लू बनाकर, केवल ये अपनी जेबों को भरते है

चुनाव इनका बिजनिस है,करोड़ो रूपये चनाव में खर्च करते है
चनाव जीतने पर उन रुपयों को,जनता से ही बसूल करते है

कहनी है एक बात रस्तोगी ने,इस देश में रहने वाले गद्दारों से
इस देश से निकलो वर्ना मार दिये जाओगे तुम्हारे ही हथियारों से

आर के रस्तोगी

1 thought on “आ रही है एक आवाज,देश की दसो दिशाओ से 

Leave a Reply

%d bloggers like this: