पता नहीं चलने वाले घर,

अब क्यों नहीं बनाते लोग|

बाँध के रस्सी खींच खींच कर,

इधर उधर ले जाते लोग|

 

कभी आगरा कभी बाम्बे,

दिल्ली नहीं नहीं घुमाते लोग|

एक जगह स्थिर घर क्यों हैं,

पहिया नहीं लगाते लोग|

 

पता नहीं क्यों कारों जैसे,

सड़कों पर ले जाते लोग|

अथवा मोटर रिक्शों जैसे

घर को नहीं चलाते लोग|

 

पता नहीं घर बैठे क्यों हैं,

, बिल्कुल नहीं हिलाते लोग|

कुत्तॊं जैसे बाँध के पट्टा

कहीं नहीं टहलाते लोग|,

 

कब से भूखे खड़े हुये घर,

खाना नहीं खिलाते लोग|

बिना वस्त्र के खड़े अभी तक,

चादर नहीं उड़ाते लोग|

 

एक दूसरे को आपस में,

कभी नहीं मिलवाते लोग|

मिल न सकें कभी घर से घर,

यही गणित बैठाते लोग|

 

ऊँच, नीच ,कमजोर, बड़ों को

जब चाहा उलझाते लोग|

जाति, धर्म के नाम घरों को,

आपस में लड़वाते लोग|

Leave a Reply

%d bloggers like this: