लेखक परिचय

रामदास सोनी

रामदास सोनी

रामदास सोनी पत्रकारिता में रूचि रखते है और आरएसएस से जुडे है और वर्तमान में भारतीय किसान संघ में कार्य कर रहे है।

Posted On by &filed under राजनीति.


(10 अक्टूबर को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा पूरे दो के जिला केन्द्रों पर संघ के कार्यकर्ताओं के नाम कथित आतंकवादी घटनाओं से जोड़ने व केन्द्र सरकार तथा कांग्रेस पार्टी के नेताओं द्वारा हिन्दु, भगवा आतंकवाद तो कभी संघ को आतंककारी प्रतिबंधित संगठन सिम्मी के समकक्ष रखने के विरोध में दिए गए। इन धरना प्रदार्नों में संघ के नेताओं के बयानों से भी अधिक चर्चा इस बात की है कि संघ के पूर्व प्रमुख केएस सुदार्न ने सोनिया गांधी को लेकर जो बयान दिया है उससे कांग्रेस पार्टी की मुखिया का ही नहीं बल्कि मानो दो का ही अपमान हुआ है। इस सम्बंध में कांग्रेस के विभिन्न नेताओं की जो टिप्पणियां सामने आ रही है उनमें वास्तविकता को जानने की मां कम और 10 जनपथ के सामने नम्बर बनाने की इच्छा अधिक झलकती है। इस सम्बंध में विस्फोट डॉट कॉम पर अनिल सौमित्र द्वारा लिखित आलेख वास्तविकता के नजदीक होने के साथसाथ कांग्रेस के नेताओं को सच्चाई से भी रूबरू करवाता महसूस होता है। )

एक बार फिर लोकतंत्र पर आपातकाल मंडरा पड़ा है। राजमाता सोनिया गांधी के सिपहसालारों ने कांग्रेसी गुण्डों, माफियाओं और लोकतंत्र के हत्यारों का आह्वान किया है कि वह देशभर में संघ कार्यालयों पर धावा बोल दे। इसका तत्काल प्रभाव हुआ और कांग्रेसी गुण्डों ने संघ के दिल्ली मुख्यालय पर धावा भी बोल दिया। ठीक वैसे ही जैसे इंदिरा गांधी की मौत के बाद सिखों को निशाना बनाया गया था। हिंसक और अलोकतातंत्रिक मानसिकता से ग्रस्त कांग्रेसी सोनिया का सच जानकर आखिर इस तरह बेकाबू क्यों हो रहे हैं?

10 नवम्बर को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने देशभर में अनेक स्थानों पर धरना दिया। संघ सूत्रों के अनुसार यह धरना लगभग 700 से अधिक स्थानों पर हुआ। इनमें लगभग 10 लाख से अधिक लोगों ने भाग लिया। हिन्दू विरोधी दुष्प्रचार की राजनीति के खिलाफ आयोजित इस धरने में संघ के छोट बड़े सभी नेताकार्यकताओं ने हिस्सा लिया। संघ प्रमुख मोहनराव भागवत लखनउ में तो संघ के पूर्व प्रमुख कुप सी। सुदर्शन भोपाल में धरने में बैठे। इसी धरने में मीडिया से बात करते हुए संघ के पूर्व प्रमुख ने यूपीए और कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी के बारे में कुछ बातें कही। इसमें मोटे तौर पर तीन बातें थी पहली यह कि सोनिया गांधी एंटोनिया सोनिया माइनो हैं। दूसरी यह कि सोनिया के जन्म के समय उनके पिता जेल में थे और तीसरी बात यह कि उनका संबंध विदेशी खुफिया एजेंसी से है और राजीव और इंदिरा की हत्या के बारे में जानती हैं। गौरतलब है कि ये तीनों बातें पहली बार नहीं कही गई हैं। जनता पार्टी के नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी सार्वजनिक रूप से कई बार इन बातों को बोल चुके हैं। गौर करने लायक बात यह है कि हिन्दू आतंक, भगवा आतंक का नारा बुलंद करने वाले और संघ की तुलना करने वाले कांग्रेसी अपने नेता के बारे में कड़वी सच्चाई सुनकर बौखला क्यों गए? लोकतंत्र की दुहाई देने वाली पार्टी अपनी नेता के समर्थन में अलोकतांत्रिक क्यों हो गई? क्या कांग्रेस स्वभाव से ही फासिस्ट है?

कांग्रेस के नेता सुदर्शन के बयान की भाषा पर विरोध जता रहे हैं। लेकिन उनकी कही बातों पर नहीं। भाषा चाहे जैसी भी हो, लेकिन कांग्रेस को मालूम है कि उसके नहले पर संघ का दहला पड़ गया है। कांग्रेस के नेता ने भी तो संघ की तुलना आतंकी संगठन सिमी से की थी। उसी कांग्रेस के नेताओं ने भगवा आतंक और हिन्दू आतंकवादी कह कर संघ को लांछित किया था। यह जरूर है कि कांग्रेस के हाथ में केन्द्रीय सत्ता की बागडोर है। संघ के हाथ में ऐसी कोई सत्ता नहीं है। कांग्रेस के बड़े नेता और केन्द्र सरकार में कांग्रेस के मंत्री चाहे तो तो जांच एजेंसियों और पुलिस को इशारा कर सकते हैं। उनके एक इशारे पर जांच की दिशा तय हो सकती है। आईबी, सीबीआई और अब एटीएस को ऐसे इशारे कांग्रेसी नेतामंत्री करते रहे हैं। जैसे गृहमंत्री पी। चिदंबरम ने पुलिस प्रमुखों की बैठक में भगवा आतंक का सिद्घांत ग़ने की कोशिश की, जैसे दिग्विजय सिंह ने पत्रकारों से चर्चा में संघ पर आईएसआई से पैसा लेने का आरोप लगा दिया, जैसे किसी लेखक ने पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी पर सीआईए से पैसा लेने का उल्लेख किया ठीक वैसे ही सुदर्शन ने कांग्रेस प्रमुख सोनिया के बारे में कुछ रहस्योद्घाटन कर दिया। कांग्रेस सड़कों पर क्यों उतर रही है? क्यों नहीं सुदर्शन के रहस्योद्घाटन की जांच करवा लेती? देश के सामने सोनिया का सच आना ही चाहिए। अगर सुदर्शन झूठे होंगे तो वे या फिर सोनिया बेनकाब हो जायेंगी। लेकिन कांग्रेस माता सोनिया के खिलाफ कांग्रेसी कुछ सुन नहीं सकते, कुछ भी नहीं।

13 Responses to “सोनिया का सच जान बेकाबू क्यों होते हो?”

  1. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन उवाच

    कुछ टिप्पणियां पढी। प्रश्न कर्ताओं के लिए, शायद निम्न विश्लेषण उत्तर है।
    जब सोनिया सभी प्रश्नोंपर मौन हैं, तो उसे बोलने के लिए उत्तेजित करनेका, और न्यायालयमें जाने के (आने के) लिए प्रोत्साहित करनेका यह एक तरिका है। इस तरिके में कुछ अधिक आरोप लगाए जाते हैं।जिससे वह न्यायालयमॆं सामने जाए।
    न्यायालयमें जाने पर,सोनिया को न्यायालयकी ****”जो कुछ कहूंगी, सच कहूंगी, और सचके सिवा और कुछ भी ना कहूंगी”*****ऐसी शपथ के अंतर्गत उत्तर देने होंगे।
    मेरे अनुमानसे(?) सोनिया के लिए न्यायालयमें जाना(?) उसके हितमें नहीं है। वह सारी लडाई मिडीया में ही, लडेगी। मिडिया में आधा सच (झूठ) चलता है। न्यायालयमें सच्चाई की शपथ लेकर बोलना होता है। यह मेरा वयक्तिक निष्कर्ष है।
    लिखना है, तो लिखके रखिए। *** सोनिया न्यायालयमें सुब्रह्मण्यम स्वामी के आरोप और सुदर्शनजी के आरोपोंका खंडन करने नहीं जाएगी, नहीं जाएगी, नहीं जाएगी। ***** लिखके रखिए। पर भोली जनता को मिडिया भरमाता रहेगा, जब तक कुरसी कांग्रेसके पास है।कुरसी गयी कि, मिडिया भी दूसरे उगते सूरज को पूजने लगेगा। मिडिया भी एक वारांगना ही है।

    Reply
  2. himwant

    You can win Italian dollar 100000. You just need to answer this question incorrectly.

    What did ex RSS Chief Baba K.S. Sudarshan said about Soniya Gandhi?

    1) She is illegal child (as his father was in jail in 1944 when she was born)
    2) She is a CIA agent
    3) She is responsible for murder of his mother-in-law Indira AGandhi
    4) She is responsible for murder of his husband Rajeev Gandhi
    5) All above

    Those who give correct answer will be sued in Indian court on charges of being a Hindu terrorist.

    Secretary General
    Congress Party Pvt Ltd

    Reply
  3. Ashwani Garg

    All we have heard from Congress party is that Sudarshan Ji has gone mad. None of them have specifically denied any of the statements Shri Sudrashan Ji has made. I think there need to be a mass education program in which Sangh should educate the people at large each issue and its justification. A large section of sensible but naive people who are congress supporters will change their stand once they see the rationale behind the issues that Shri Sudarshan Ji has raised.

    Reply
  4. Anil Sehgal

    सोनिया का सच जान बेकाबू क्यों होते हो? – by – रामदास सोनी

    “एक बार फिर लोकतंत्र पर आपातकाल मंडरा पड़ा है ….. आह्वान ….. देशभर में संघ कार्यालयों पर धावा बोल दे ….. कांग्रेसी गुण्डों ने संघ के दिल्ली मुख्यालय पर धावा ….. जैसे इंदिरा गांधी की मौत के बाद सिखों को निशाना बनाया गया था ….. ?

    …………… मेरा प्रश्न ……………

    – क्या यह सभी करने से संघ भयभीत या कमज़ोर हो जाएगा
    – क्या भ्रष्टाचार के आक्षेप दब जायेंगे
    – क्या भ्रष्टाचार के काले धन के प्रयोग से कांग्रेस चुनाव जीत कर इस बार सम्पूरण बहुमत ले पायेगी

    – यदि हाँ, तो ऐसे लोकतंत्र का क्या करें ? कोई जयप्रकाश नारायण बन आगे आये. Arise awake and stop not till the is achieved

    – अनिल सहगल –

    Reply
  5. Rakesh Kumar

    अगर सुदर्शन जी ने कहा तो ऐसे ही नहीं कहा होगा, जरुर कहीं न कहीं ये बात कुच्छ हद तक सच होगी ! ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें डॉ. सुब्रमनियम स्वामी द्वारा लिखे इस लेख को जो सुप्रीम कोर्ट में वकील हैं . इन्होंने यह सारी जानकारी उस समय के प्रधान मंत्री अटल जी और गृह मंत्री आडवानी जी को भी दी थी, पर इसे वे इगनोरे कर दिए थे, फिर वो सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर भी करने की कोशिश भी की थी जो कोर्ट ने डिसमिस कर दिया इसे पर्सनल गोपिनियता में दखल कह के …..
    लेख बहुत जयादा लम्बा है पूरा लेख पढ़ें http://janataparty.org/sonia.html

    Do You Know Your Sonia Gandhi?
    by
    Dr. Subramanian Swamy
    (National President, Janatha Party)

    INTRODUCTION
    THREE LIES
    SONIA’S INTRODUCTION INTO INDIA
    SONIA’S KGB CONNECTIONS
    SONIA’S CONTEMPT FOR LAWS OF INDIA
    SONIA GANDHI IS THE MODERN ROBERT CLIVE
    WHAT PATRIOTIC INDIANS CAN DO

    Reply
  6. Mayank Verma

    सुदर्शन चक्र चल चुका है!!! कांग्रेस की जान सिर्फ सोनिया मैं है, ये सुदर्शन चक्र कंग्रेस का सर्वनाश करके ही रुकेगा|

    Reply
  7. मिहिरभोज

    भाई क्या आपने द्रोहकाल फिल्म देखी है…नहीं देखी तो देखिये बहुत कुछ समझ आयेगा..जो काम के थे मारे गये इंदिरा जी,राजीव ,संजय,माधवराव सिंधिया…जो नहीं मारे गये नारायण दत्त तिवारी,शरद पवार…..बरफ मैं लगा दिये गये और जो बचे वे चमचे हैं सिर्फ जिनकी गर्दन मैं एक ही जोङ है जो आगे पीछे हिलता है

    Reply
  8. Anwar

    इस मुद्दे पर बाबा रामदेव के बयान को मिडिया ने मिसकोट कर दिया। लेकिन सुब्रमन्यम स्वामी का बयान ठीक आया है। कुछ अन्य लोगो को भी आगे आ कर सोनिया को एक्सपोज करना चाहिए। कुछ मुस्लीम लीडर्स को भी इस मुद्दे पर सुदर्शन जी का साथ देना चाहिए।

    Reply
  9. Himwant

    वाह बाबा सुदर्शन – आपने तो कमाल कर दिया। कांग्रेसी अब सारे देश में अपनी रानी मधुमक्खी की असलियत बयान करते हुए प्रदर्शन कर रहे है। देशवासियो को असलियत से वाकिफ कराने का इस से अच्छा तरिका और क्या हो सकता था। वैसे विदेशी निवेष वाले टीवी चैनल बडे दुष्ट है – वह सिर्फ ईत्ता भर कह रहे है की बाबा जी सोनिया के खिलाफ “आपत्तिजनक बाते” कही हैं। सारी बाते खोल कर नही कह रहे है। वैसे बांकी का काम कांग्रेसीजन भुंक भुंक कर कह रहे हैं। वैसे आरोपो पर विस्तार से चर्चा हो तो अच्छा है। कोई टीवी चैनल वाला आरोपो पर विस्तृत चर्चा क्यो कही करवा रहा है

    Reply
  10. Vishwash Ranjan

    कांग्रेस एक ऐसी मानसिकता वाले लोगो का दल है जो यह जानते हैं की राजनीती मैं सच्चाई का कोई मोल नहीं….दमदार तरीके से झूट बोलो…..सौ बार बोलो….दबंगई से बोलो….जरूरत पड़े तो गुंडागर्दी करो…और कांग्रेस ने कार्यकर्ताओं के रूप मैं ऐसे ही लोगो को पोषित किया है जो अवसरवादी हैं और…पैसे की खातिर कुछ भी कर सकते हैं! वोटर क्या कर लेगा! वोटिंग मशीन का बटन कही और है.
    गिलानी, अरुंधती, कॉमनवेल्थ, स्पेक्ट्रम, लवासा, आदर्श जैसे अनगिनत मामलों पर जनता के आक्रोश को भांप बुरे फंसे कांग्रेसियों के पास कोई चारा नहीं था…

    कांग्रेसी संघ का जितना विरोध करेंगे संघ और मजबूत होगा.

    Reply
  11. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. प्रो. मधुसूदन उवाच

    http://agrasen.blogspot.com/2009/05/know-sonia-maino-gandhi.html

    इस ब्लॉग पर जाकर सच देख लें।
    *** लिखके रखिए, कांग्रेस केवल फुत्कार करेगी, घोषणाएं करेंगी। पर केस वापस लेगी। आप लिखकर रखे।***** क्यों? कि सारी हानि सोनिया की ही है।सुदर्शन जी के पास क्या है, खोने के लिए?****
    और सुब्रह्मण्यन स्वामी हार्वर्ड का पी एच डी है, मैंने उन्हे सुना है, बहुत तर्क पूर्ण बोलते हैं।वे भी चाहते हैं, कि केस चलें, तो “नीर- क्षीर” न्याय हो जाएगा। क्यों कि उन्होने जब केस फाईल किया, तो उसे सफलता नहीं मिली थी। डटे रहिए, जो भी सोक्ष-मोक्ष होना हो, हो जाए।वंदे मातरम॥

    Reply
  12. दिवस दिनेश गौड़

    Er. Diwas Dinesh Gaur

    आदरणीय सोनी जी कौंग्रेस अपना पतन देख कर बौखला गयी है, इसीलिए ये नेतागण कुछ भी उल्टा सीधा बके जा रहे हैं| कभी संघ को मुस्लिम विरोधी संगठन बताते है तो कभी इसका आईएसआई से सम्बन्ध बताते हैं|
    ab वह दिन दूर नहीं जब कौंग्रेस की नस्ल इस देश से ख़त्म हो jaaegi|

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *