लेखक परिचय

नीलाक्ष “विक्रम”

नीलाक्ष “विक्रम”

पाक में मिशन अंजाम देने से पहले इस्लाम अपनाने वाला भारत का ‘ब्लैक टाइगर’

Posted On & filed under शख्सियत, समाज.

नीलाक्ष “विक्रम” शायद आपको एक ऐसे भारतीय जासूस के बारे में कोई जानकरी न हो जिसने जासूसी करने के लिए इस्लाम अपनाई और पाकिस्तान की सेना में सैनिक अधिकारी की नौकरी भी की, लेकिन समय आने पर उसके अपने देश ने ही उसे पहचान करने से इनकार कर दिया  । यहां बात हो रही है… Read more »

ताजमहल अथवा तेजोमहालय का मामला पुनः न्यायालय की शरण में

Posted On & filed under जन-जागरण, विविधा.

नीलाक्ष “विक्रम”     दुनिया को दीवाना बनाने वाला ताजमहल मुगलिया तामीर की मिसाल है या फिर प्राचीन शिव मंदिर। सालों पुराना यह विवाद एक बार पुनः न्यायालय की शरण अर्थात फिर अदालत की चौखट तक पहुंच गया है। ताजमहल को अग्रेश्वर महादेव नागनाथेश्वर विराजमान तेजो महालय घोषित करने की याचिका आगरा में सिविल जज… Read more »



जन-गण-मन मंगलदायक जय हे

Posted On & filed under टॉप स्टोरी, राजनीति, हिंद स्‍वराज.

नीलाक्ष “विक्रम”   राष्ट्रगान के एक शब्द अधिनायक को लेकर नई बहस शुरू है। बहस और अदालती मामले पहले भी सुर्खियां बने हैं। इस बार राज्यपाल जैसे संवैधानिक पद पर बैठे दो लोगों में इस मुद्दे पर मतभिन्नता है। ‘अधिनायक’ शब्द हटाने या न हटाने को लेकर राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह और त्रिपुरा के… Read more »

जापान में संस्कृत अध्ययन-अध्यापन की अखण्ड परम्परा

Posted On & filed under जन-जागरण, विविधा.

-नीलाक्ष “विक्रम” जापान देश में विगत चौदह शताब्दियों से संस्कृत अध्ययन-अध्यापन की अखण्ड परम्परा चली आ रही है। प्रो. हाजी-मे-नाका-मुरा के अनुसार तो भारत को छोड़कर संसार में सबसे अधिक संस्कृत का अध्ययन-अध्यापन जापान में ही होता रहा है और एक बड़ी संख्या में वहां के विद्यार्थी संस्कृत पढ़ते रहे हैं। जापान में संस्कृत की… Read more »