Main Story

Editor's Picks

Trending Story

ताज़ा समाचार (Latest News)

शीलाजी प्रधानमंत्री के लायक थीं

डॉ. वेदप्रताप वैदिक श्रीमती शीला दीक्षित बीमार थीं और काफी कमजोर हो गई थीं। लेकिन ऐसी संभावना नहीं थी कि वे अचानक हमारे बीच से...

न्यायिक सेवाओं को अखिल भारतीय सेवा बनाने के सम्बंध में

माननीय विधि एवम न्याय मंत्री, भारत सरकार नई दिल्ली महोदय , न्यायिक सेवाओं  को  अखिल भारतीय  सेवा बनाने  के सम्बंध में उक्त संदर्भ में समाचार पत्रों...

हिंदी साहित्य संस्थान द्वारा संगोष्ठी संपन्न

प्रेमचंद ने जन साधारण को अपनी रचनाओं का पात्र बनाया  मंदसौर . हिंदी साहित्य संस्थान द्वारा मुंशी प्रेंमचंद के साहित्यिक अवदान पर संगोष्ठी का आयोजन...

छग सरकार सुप्रीम कोर्ट में भेजें वनाधिकार विशेषज्ञ वकील को, बेदखली से करें इंकार – माकपा

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने वनभूमि से आदिवासियों को बेदखल करने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ भूमि एवं वन अधिकार आंदोलन द्वारा आयोजित देशव्यापी...

किसानों को ऋष वितरण करते शाखा प्रबंधक व अन्य

दलौदा शाखा ने जुलाई माह में 1 करोड़ का कृषि व गोल्ड लोन वितरण किया, किसान दिवस पर शाखा प्रबंधक सावन साहू ने दी जानकारीदलौदा/मंदसौर...

साहित्यसुधा जुलाई(द्वितीय), 2019 अंक

मान्यवर,‘सहित्यसुधा’ के प्रेमियों को यह  बताते हुए हर्ष हो रहा है कि ‘साहित्यसुधा’ का जुलाई(द्वितीय),2019 अंक अब https://sahityasudha.com   पर उपलब्ध हो गया है। कृपया साहित्यसुधा की  वेबसाइट  पर जा कर साहित्य का आनंद...

साहित्य

शिक्षा में नैतिक मूल्य विषयक राष्ट्रीय संगोष्ठी

नई दिल्ली, 22 जुलाई 2019। अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक केंद्र मनुमुक्त भवन, नारनौल हरियाणा में ‘शिक्षा में नैतिक मूल्यों का समावेश’ विषयक राष्ट्रीय संगोष्ठी में उल्लेखनीय लेखन, पत्रकारिता,...

तलाश

उसकी तलाश और है, मेरी तलाश और थक जाऊं ढूंढ करके तो कहता तलाश और। पहले ही उसने पी लिया भर भर के प्याले गम...

हिंदी गजल

अपराध हुआ पर सजा नहीं। जरूरी बात पर रजा नहीं।। बन गए जो महान हस्तियाँ, उनका प्रयाण पर कजा नहीं। नृत्य देख शोख सुंदरी का,...

“भारतीय संस्कृति से विश्व का कल्याण होगा”

भारतीय संस्कृति पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष आघात शतकों से होता आ रहा है। विदेशी धर्मान्ध आक्रांताओं द्वारा सत्य सनातन वैदिक हिन्दू धर्म व संस्कृति को...

ऊंची नाक का सवाल (व्यंग्य)

इस दौर में जब देश में बाढ़ का प्रकोप है तो नाक से सांस लेने वाले प्राणियों में नाक एक लक्ष्मण रेखा बन गयी है...

प्रभुजी, वे चाकू हम खरबूजा

नाटक देखना किसे अच्छा नहीं लगता। गीत और संगीत, हास्य और रुदन, व्यंग्य और करुणा से लिपटे डायलाॅगों के साथ अभिनय का सामूहिक रूप यानि...