Main Story

Editor's Picks

Trending Story

ताज़ा समाचार (Latest News)

हिंदी को बचाने-बढ़ानें में साहित्यकारों की भूमिका ?

सोशल मीडिया परिचर्चा प्रस्तुति - वरिष्ठ पत्रकार श्री राहुल देवजवाहर कर्णावट - दिल्ली के पुस्तक मेले में  हिन्दी साहित्य  की विभिन्न विधाओं की पुस्तकों के थोक में...

सूचना एवं जनसंपर्क विभाग बिहार सरकार न्यू मीडिया के पत्रकारों को पत्रकार नहीं मानता

डॉ. लीना / संपादक, मीडियामोरचा पटना। बिहार सरकार का सूचना एवं जनसंपर्क विभाग बिहार के न्यू मीडिया यानी वेब पोर्टल (न्यूज पोर्टल) के पत्रकारों को पत्रकार...

सपा-बसपा का गठबंधन जरूरी कम मजबूरी ज्यादा!

अब्दुल रशीद देश की सियासत में उत्तर प्रदेश इसलिए अहम है क्योंकि केंद्र सरकार बनाने के लिए सबसे ज्यादा 80 लोकसभा सीट उत्तर प्रदेश में है। 2019 का चुनाव...

2019 के युद्ध का असर

अनिल अनूप दिल्ली के रामलीला मैदान में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में बोलते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा...

पाकिस्तान से लौटे हामिद अंसारी सुषमा स्वराज के गले लग कर रोए

नई दिल्ली: पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में 6 साल बंद रहने के बाद हामिद अंसारी कल वापस भारत लौट आए। काफी लंबे समय के...

सज्जन कुमार ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से दिया इस्तीफा, 1984 दंगे में उम्रकैद की सजा

नयी दिल्ली : दिल्ली हार्इकोर्ट की आेर से 1984 सिख दंगे में दोषी करार दिये जाने के बाद उम्रकैद की सजा पाने वाले कांग्रेस के...

साहित्य

मैं अध्यापिका कहलाती हूँ

      क्यों कहूँ मैं कि सुबह का अलार्म मुझे सोने नहीं देता ? जबकि वह तो सूर्य देव के स्वागत में मुझसे गुस्ताखी होने नहीं...

इन्सान ही बनना ।

सबका ही सम्मान तू करना ,नहीं कभी अपमान तू करना हिंदू मुस्लिम बाद में बनना ,पहले तू इन्सान ही बनना ।तकलीफ़े न देना किसी को,कभी किसी...

जीवन बस इक धोखा है।

दुनिया की उलझन में पड़कर, सब ताने बाने बदल गये हम तो वैसे के वैसे रहे, पर दोस्त पुराने बदल गये। ये बात नही परिवर्तन...

वो बैठे फेसबुक खोले

नभ चाहें धरती डोले, वो बैठें फेसबुक खोलेउंगली करें होले होले,वो बैठें फेसबुक खोले!दुनिया भर के दोस्त बना दे, ये इण्टरनेट साइट, गीदड़ भी है...

एहसास की अभिलाषा

तुम पुष्प से सुकुमार हो, तलवार की भी धार हो।तुम ही भविष्य हो देश का, मजधार मे पतवार हो।माँ भारती को मान दो, और बड़ो...

पास वो मेरे इतने है कि दूरियों का अहसास नहीं

पास वो मेरे इतने है कि,दूरियों का अहसास नहीं कुछ बोलना चाहती हूँ,पर बोलने का साहस नहीं कहने को बहुत कुछ कह सकती,पर अभी समय नहींजुबान पर...