Main Story

Editor’s Picks

Trending Story

ताज़ा समाचार (Latest News)

वैदिक संस्कृति और इतिहास का प्रतिनिधित्व करता है देवेन्द्र दीपक का रचना संसार : रामबहादुर राय

डॉ. देवेंद्र दीपक के साहित्य सूक्तियों की भरमार है। इन सूक्तियों में जीवन-दर्शन छिपा हुआ है। इन पर बड़े स्तर पर शोध होना चाहिए। उनकी...

संघर्ष और साधना की मिसाल है सप्रे जी का जीवन : हृदय नारायण दीक्षित

पं. माधवराव सप्रे की सार्द्ध शती के अवसर पर आईआईएमसी का आयोजन नई दिल्ली, 29 जुलाई। ''पं. माधवराव सप्रे भारतीय नवजागरण के पुरोधा थे। आज...

राष्ट्र-निर्माण में मारवाड़ी समाज की सक्रिय भूमिका: ओम बिरला

लोकसभा अध्यक्ष श्री ओम बिरला ने मारवाड़ी समाज के जनकल्याणकारी कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि समाज निर्माण के साथ-साथ राष्ट्र निर्माण में मारवाड़ी...

अराजक टकराव!

१९ जुलाई से शुरू हुआ संसद का मानसून सत्र विपक्षीदलों के हंगामें व टकराव के चलते २६ जुलाई तक लगातार बाधित बना हुआ है।विपक्ष का...

वे भूले नहीं है अतीत के अपमानों को !

ब्राह्मणों के प्रति यदि विपक्षीदलों खासकर बसपा, सपा व कांग्रेस आदि मेें प्रेम कुछ ज्यादा ही उमड़ने लगा है तो यह २०२२ के विधानसभा चुनाव...

निराश करने वाला आचरण

आजादी के बाद देश की न्याय पालिका के अनेक निर्णय न केवल अभिनंदनीय रहे है वरन् ऐतिहासिक भी पर देश की सर्वोच्च अदालत यानी सुप्रीम...

साहित्य

धर्म और मजहब में बहुत अधिक अंतर होता

---विनय कुमार विनायकवह भी कोई धर्म-मजहब है क्या?जिस धर्म-मजहब में हर सत्कर्मसिर्फगुनाह ही गुनाह लगता हो,हर मानवता विरोधीदुष्कर्म के लिएमजहब मेंकेवलवाह-वाह हो! भलावोधर्म-मजहबहोता कहींजिसमें राखी...

सात्विक धन एवं पुण्य कर्म ही लोक-परलोक में जीवात्मा के सहायक

-मनमोहन कुमार आर्य       मनुष्य को अपना जीवन जीनें के लिए धन की आवश्यकता होती है। भूमिधर किसान तो अपने खेतों में अन्न व गो...

ग्रामीणों को कोरोना से बचाने जुटी आदिवासी किशोरियां

रूबी सरकार भोपाल, मप्र कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान मध्य प्रदेश के सुदूर आदिवासी अंचलों में स्वास्थ्य कर्मियों को काफी परेशानियों का सामना करना...

अबकी सावन उदास है

प्रभुनाथ शुक्ल अबकी सालगाँव आया सावन उदास हैपागलों सा लगताबदहवाश हैखुद में खुद को तलाशताऔर बदली फिज़ाओं सेपूछता सवाल है ?अबकी सावन उदास है अबकी...

आज छोटे शहर खाली क्यों हो रहे है ?

शायद आपने कभी ध्यान से देखा या देखा नहीं चूकि आपका गली मुहल्ले से इतना वास्ता नहीं पड़ता। आप बस तेजी से अपनी बाइक या...

भारतीय डाकघर की गिरती दशा

---विनय कुमार विनायकश्रद्धेय महामहिम भारत सरकारनमस्कार डाकघर का नमस्कार!औपचारिक कुशलम कुशलात के पश्चातशुरू करता हूं अपनी बातभारतीय डाकघर की हालत नित हो रही बदतरअंग्रेज गए...

38 queries in 2.915