Main Story

Editor's Picks

Trending Story

ताज़ा समाचार (Latest News)

हिंदी को बचाने-बढ़ानें में साहित्यकारों की भूमिका ?

सोशल मीडिया परिचर्चा प्रस्तुति - वरिष्ठ पत्रकार श्री राहुल देवजवाहर कर्णावट - दिल्ली के पुस्तक मेले में  हिन्दी साहित्य  की विभिन्न विधाओं की पुस्तकों के थोक में...

सूचना एवं जनसंपर्क विभाग बिहार सरकार न्यू मीडिया के पत्रकारों को पत्रकार नहीं मानता

डॉ. लीना / संपादक, मीडियामोरचा पटना। बिहार सरकार का सूचना एवं जनसंपर्क विभाग बिहार के न्यू मीडिया यानी वेब पोर्टल (न्यूज पोर्टल) के पत्रकारों को पत्रकार...

सपा-बसपा का गठबंधन जरूरी कम मजबूरी ज्यादा!

अब्दुल रशीद देश की सियासत में उत्तर प्रदेश इसलिए अहम है क्योंकि केंद्र सरकार बनाने के लिए सबसे ज्यादा 80 लोकसभा सीट उत्तर प्रदेश में है। 2019 का चुनाव...

2019 के युद्ध का असर

अनिल अनूप दिल्ली के रामलीला मैदान में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में बोलते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा...

पाकिस्तान से लौटे हामिद अंसारी सुषमा स्वराज के गले लग कर रोए

नई दिल्ली: पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में 6 साल बंद रहने के बाद हामिद अंसारी कल वापस भारत लौट आए। काफी लंबे समय के...

सज्जन कुमार ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से दिया इस्तीफा, 1984 दंगे में उम्रकैद की सजा

नयी दिल्ली : दिल्ली हार्इकोर्ट की आेर से 1984 सिख दंगे में दोषी करार दिये जाने के बाद उम्रकैद की सजा पाने वाले कांग्रेस के...

साहित्य

एहसास की अभिलाषा

तुम पुष्प से सुकुमार हो, तलवार की भी धार हो।तुम ही भविष्य हो देश का, मजधार मे पतवार हो।माँ भारती को मान दो, और बड़ो...

पास वो मेरे इतने है कि दूरियों का अहसास नहीं

पास वो मेरे इतने है कि,दूरियों का अहसास नहीं कुछ बोलना चाहती हूँ,पर बोलने का साहस नहीं कहने को बहुत कुछ कह सकती,पर अभी समय नहींजुबान पर...

तिल की महिमा

तिल गुड पर चिपक जाये,तो वह गजक हो जायेअगर तिल गाल पर हो ,सुन्दरता अजब हो जाये तिल करते करते जिन्दगी कम कम होती जायेतिल...

आर्त्त गैया की पुकार

_________________ कंपित ! कत्ल की धार खडी ,आर्त्त गायें कह रही –यह देश कैसा है जहाँ हर क्षण गैया कट रही !आर्त्त में प्रतिपल धरा,...

वहां बिना बात भी बात हुई ।

सुन्दर गुलाब सुन्दर गुलाब का फूल जो देखे जाए पल में खुद को ही भूल ।चलो चूल्हा आ गया गैस भी आएगी नहीं आया कुछ अश्रुगेस तो...

शव का छलावा

रहस्य कथा जगदीश यादव श्मशान साधना कई तरहों से की जाती है। इस साधना का गूढ़ रहस्य तो वही साधक समझ सकता है जो इसकी जानकारी...