Main Story

Editor’s Picks

Trending Story

ताज़ा समाचार (Latest News)

प्रो. दविंदर कौर उप्पल का निधन, आईआईएमसी महानिदेशक ने दुख जताया

सामाजिक सरोकारों और स्त्री अधिकारों के लिए किया काम नई दिल्ली, 4 मई। प्रख्यात मीडिया शिक्षक और जनसंचार विशेषज्ञ प्रो. दविंदर कौर उप्पल (75 वर्ष) का...

बंगाल में हिंसा आगजनी व लूटपाट पर अबिलम्ब विराम लगे: विहिप

नई दिल्ली। मई 04, 2021. बंगाल में गत तीन दिनों से लगातार चल रही हिंसा, आगजनी, लूटपाट, धमकियों तथा राजनैतिक विद्वेष पूर्ण हमलों ने सम्पूर्ण...

कोरोना महामारी के समय सुकून देने वाला एक भजन लॉन्च, पत्रकार बने भजन गायक

कोरोना महामारी के इस समय जहां हर तरफ निऱाशा का माहौल है। भय और भ्रम की स्थिति बनी हुई है। लोग हर वक्त सवालों से...

सप्रे की 150 वीं जयंती वर्ष राष्ट्रीय स्तर पर मनेगा: रामबहादुर राय

नई दिल्ली। हिंदी पत्रकारिता के यशस्वी हस्ताक्षर पं.माधवराव सप्रे की पुण्यतिथि प्रसंग पर आयोजित आनलाईन कार्यक्रम में उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर चर्चा की गई।...

वरिष्ठ स्तम्भकार और शिक्षाविद सुशील कुमार को मिलेगा हरियाणा संस्कृत अकादमी पुस्तक सम्मान

हरियाणा संस्कृत अकादमी ने राज्यस्तरीय पुरस्कार किए घोषित। हिसार. वरिष्ठ स्तम्भकार और शिक्षाविद हिसार निवासी सुशील कुमार के नाम एक नई उपलब्धि और जुड़ गई...

कोरोना से मुक्ति के लिए जी-जान से जुटे हैं: डॉ एएल शर्मा (शब्दिता संवाद सेवा)

शिवपुरी।पिछले एक साल से जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एएल शर्मा कोरोना रोगियों को सुचारू इलाज़ दिलाने के लिए दिन रात लगे हुए हैं।उनकी...

साहित्य

सृष्टि के नियम

किये है जो कर्म हमने,उन्हीं का फल पा रहे हैं,बोए है जो पेड़ हमने,उन्हीं के फल खा रहे है।चला आ रहा है यह नियम सृष्टि...

भारतीय परम्पराओं का पालन कर दी जा सकती है कोरोना महामारी को मात

कोरोना महामारी का संकट, अपने दूसरे दौर में, एक बार पुनः देश के सामने पहले से भी अधिक गम्भीर चुनौती बनकर आ खड़ा हुआ है।...

रवींद्रनाथ टैगोर : जिसने तीन देशों को दिए राष्ट्रगान व भारत को पहला नोबेल पुरस्कार

भारतीय इतिहास गौरवशाली गाथाओं से भरा हुआ है | इस पावन धरा पर विश्वविजेताओं की संख्या का भी कोई हिसाब नही | किन्तु इतिहास के...

हिन्दी उर्दू एक सिर दो धड़ है

---विनय कुमार विनायकजवाहरलाल नेहरू का कहना है,हिन्दी उर्दू एक सिर दो धड़ है! इससे सटीक परिभाषा हो नहींसकती हिन्दी व उर्दू भाषा की! हिन्दी वाक्य...

कोरोना त्रासदी(अपनों को खोने का गम )

अंधेरे में डूबा है यादों का गुलशनकहीं टूट जाता है जैसे कोई दर्पणकई दर्द सीने में अब जग रहे हैंहमारे अपने ,हमसे बिछड़ रहे हैंन...

बदहाली के दलदल में धंसते श्रमिक

-अरविंद जयतिलकयह विडंबना है कि एक ओर वैश्विक समुदाय कल्याणकारी योजनाओं के जरिए श्रमिकों की दशा में सुधार के लिए प्रयासरत है वहीं श्रमिक उबरने...