विश्वगुरू के रूप में भारत-32

Posted On by & filed under विविधा

राकेश कुमार आर्य   सभी मनुष्यों को यह अधिकार है कि बुद्घि पूर्वक अपने जीवनोद्देश्य का निर्धारण करे। अपनी सामाजिक, शारीरिक व आत्मिक उन्नति करे, साथ ही परोपकारी बने रहकर अन्य जीवों के कल्याण की योजनाओं में भी लगा रहे, विद्या प्राप्ति करे और अज्ञान से युक्त होकर अपनी शारीरिक रक्षा करने व भोजन वस्त्र… Read more »

विश्वगुरू के रूप में भारत-31

Posted On by & filed under विविधा

राकेश कुमार आर्य इन नास्तिकों की बात तो कहीं तक ठीक थी कि राजनीति और साम्प्रदायिकता को अलग करो, परंतु इनसे दो भूले हुईं-एक तो यह कि ये लोग साम्प्रदायिकता और धार्मिकता को एक ही समझ बैठे-उनमें ये अंतर नहीं कर पाये। इसलिए इन लोगों ने संसार के लिए परमावश्यक धार्मिकता को भी गोली मारने… Read more »

विश्वगुरू के रूप में भारत-30

Posted On by & filed under विविधा

राकेश कुमार आर्य  एक मां के गर्भ में आना दूसरे के यहां पैदा होना, देश छोडक़र भेजा जाना, रास्ते में नदी की सूचना, तत्कालीन राजा द्वारा बच्चों का वध गौ और मधु दोनों का प्रेम यह कृष्ण और क्राइस्ट की सब समान गाथाएं हैं। पर वध की कहानी कंस से मिलती है। क्राइस्ट की… Read more »

केंद्र का सबके लिए आवास पर काम

Posted On by & filed under विविधा

डॉ. मयंक चतुर्वेदी भारत में 80 के दशक में एक फिल्‍म आई थी रोटी, कपड़ा और मकान । इस फिल्म में अभिनेता शशिकपूर का एक प्रसिद्ध डायलॉग है, किसी भले आदमी ने कहा है कि ये मत सोचो कि देश तुम्‍हें क्‍या देता है, सोचो ये कि तुम देश को क्‍या दे सकते हो और जब तक हम सब ये… Read more »

बांध का उद्घाटन से पहले ही ढह जाना!

Posted On by & filed under विविधा

ललित गर्ग – एक बांध उद्घाटन होने से पहले ही ढह गया, भ्रष्टाचार के एक और बदनुमे दाग ने राष्ट्रीय चरित्र को धंुधलाया है, समानान्तर काली अर्थव्यवस्था इतनी प्रभावी है कि वह कुछ भी बदल सकती है, कुछ भी बना और मिटा सकती है। यहां तक की लोगों के जीवन से खिलवाड़ भी कर सकती… Read more »

विश्वगुरू के रूप में भारत-29

Posted On by & filed under विविधा

राकेश कुमार आर्य  आज की शिक्षा बच्चे को बड़ा होकर धनी बनाने के लिए दिलायी जाती है, जबकि भारत में इसके विपरीत था। यहां तो वेद (यजु. 2/33) की व्यवस्था है :- ”(विद्यार्थी के माता-पिता उसके गुरू से निवेदन कर रहे हैं) हे गुरूजनो! कमल पुष्प की माला पहने इस बालक को अपने गुरूकुल… Read more »

रोहिंग्या मुस्लिमों के पक्ष में एकजुटता का औचित्य

Posted On by & filed under विविधा

प्रमोद भार्गव जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग, मध्य प्रदेश के जबलपुर और उत्तर प्रदेश के लखनऊ में घुसपैठ करके आए रोहिंग्या मुस्लिमों के पक्ष में और म्यांमार में इनके विरुद्ध चल रही सैनिक दमन कार्यवाही के विरोध में मुस्लिमों का प्रदर्शन हैरानी में डालने वाला है। यह प्रदर्शन जब और आश्चर्य में डालता है, तब एसआईटी ने… Read more »

रोहिंग्या मुसलमानों का विरोध क्यों ….

Posted On by & filed under विविधा

रोहिंग्या मुस्लिम घुसपैठियों का हर संभव विरोध करना होगा नही तो ये मानवता के नाम पर दानव बन कर बंग्लादेशी घुसपैठियों के समान हमें लूटते रहेंगे और धीरे धीरे हमारे संसाधनों पर अधिकार कर लेगें। धर्म और देश की रक्षार्थ ऐसे घुसपैठियों को जो बसे हुए है उन्हें भी किसी भी स्थिति में अपने देश… Read more »

बुलैट ट्रेन : भारतीय रेलवे को मिलेगी गति

Posted On by & filed under विविधा

सुरेश हिन्दुस्थानी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जापान के सहयोग से हवा से बातें करने वाली उच्च गति वाली बुलेट ट्रेन लाकर भारत के विकास के लिए आधारशिला की स्थापना की है। हालांकि बुलेट ट्रैन लाने के मोदी के प्रयासों की यह कहकर आलोचना भी की जाएगी कि जब वर्तमान रेल यातायात अनियंत्रित हो रहा है,… Read more »

विश्वगुरू के रूप में भारत-28

Posted On by & filed under विविधा

राकेश कुमार आर्य   हर युग में और हर स्थिति-परिस्थिति में भारत के महान लोगों ने मानवतावाद को पुष्ट करने वाले चिंतन को प्रस्तुत किया और उसी के आधार पर लोगों को जीवन जीने के लिए प्रेरित किया। जब तक भारत की ऐसी शिक्षा प्रणाली विश्व का मार्गदर्शन करती रही तब तक संसार में… Read more »