ईद इंसानियत का पैगाम देता है 

Posted On by & filed under वर्त-त्यौहार, समाज

रोजा वास्तव में अपने गुनाहों से मुक्त होने, उससे तौबा करने, उससे डरने और मन व हृदय को शांति एवं पवित्रता देने वाला है। रोजा रखने से उसके अंदर संयम पैदा होता है, पवित्रता का अवतरण होता है और मनोकामनाओं पर काबू पाने की शक्ति पैदा होती है। एक तरह से त्याग एवं संयममय जीवन की राह पर चलने की प्रेरणा प्राप्त होती है। इस लिहाज से यह रहमतों और बरकतों का महीना है।

जोगीरा हास्य व्यंग की अनूठी विधा

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

किसके बेटा राजा रावण किसके बेटा बाली?
किसके बेटा हनुमान जी जे लंका जारी?
विसेश्रवा के राजा रावण बाणासुर का बाली।
पवन के बेटा हनुमान जी, ओहि लंका के जारी।
जोगी जी वाह वाह, जोगी जी सारा रा रा।

बुराई को त्यागने का प्रतीक है होली

Posted On by & filed under पर्व - त्यौहार, वर्त-त्यौहार, समाज

रंगों का पर्व होली हिन्दुओं का पवित्र त्यौहार है। यह मौज-मस्ती व मनोरंजन का त्योहार है। सभी हिंदू जन इसे बड़े ही उत्साह व सौहार्दपूर्वक मनाते हैं। यह त्योहार लोगों में प्रेम और भाईचारे की भावना उत्पन्न करता है।

होली पर्व भारत में बहुसांस्कृतिक समाज के जीवंत रंगों का प्रतीक

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, पर्व - त्यौहार, वर्त-त्यौहार, समाज

होली पर्व पूरे देश में परंपरा, हर्षोल्लास और उत्साह के साथ मनाया जाने वाला त्यौहार है। होली पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। होली पर्व हमारे देश में उपस्थित बहुसांस्कृतिक समाज के जीवंत रंगों का प्रतीक है। होली पर्व देश में हमारी संस्कृति और सभ्यता के मूल सहिष्णुता और सौहार्द की भावना को बढ़ावा देने वाला पर्व है। इस पर्व को सभी लोगों को शांति, सौहार्द और भाईचारे की भावना से मनाना चाहिए।

जानिए वर्ष 2017 में होलिका दहन का शुभ मुहूर्त

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

संवत् 2073 दिनांक 12 मार्च 2017 को भारत के विभिन्न स्थानों पर होलिका दहन का मुहूर्त नीचे दिए गए समय के अनुसार ही करे वह समय इस प्रकार से है ।। वर्ष 2017 में होलिका दहन 12 मार्च 2017, रविवार के दिन मनाई जाएगी. होलिका दहन मुहूर्त = 06:23 pm से 08:23 pm तक रहेगा…. Read more »

जानिए गणगौर पूजन क्या हैं और क्या हैं गणगोर व्रत की विधि और मनेगा 2017 में गणगोर —

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

भारत भर में चैत्र शुक्ल तृतीया का दिन गणगौर पर्व के रूप में मनाया जाता है। हिन्दू समाज में यह पर्व विशेष तौर पर केवल स्त्रियों के लिए ही होता है। होली के दूसरे दिन (चैत्र कृष्ण प्रतिपदा) से जो नवविवाहिताएँ प्रतिदिन गणगौर पूजती हैं, वे चैत्र शुक्ल द्वितीया के दिन किसी नदी, तालाब या… Read more »

होली के वासंती रंग में बाजार का कृतिम रंग न चढ़ाएं 

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

अखिलेश आर्येन्दु हम यदि होली के विभिन्न संदर्भों की बात करें तो पाते हैं कि न जाने कितने संदर्भ, घटनाएं, प्रसंग, परंपराएं और सांस्कृतिक-तत्त्व किसी न किसी रूप में इस प्रेम और सदभावना के महापर्व से जुडे़ हुए हैं। लेकिन सबसे बड़ा प्रतीक इस पर्व का प्रेम का वह छलकता अमृत-कलश है जिसमें हमारा अंतर-जगत्… Read more »

महाशिवरात्रि 2017 पर बने हैं ये विशेष योग —

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

–,हमारे देश में सभी त्योहार बड़ी धूम धाम से मनाए जाते है। फिर वह चाहे दिवाली हो, होली हो या महाशिवरात्रि। आगामी 24 फरवरी 2017 को महाशिवरात्रि है। ऐसे में सभी श्रद्धालू धूम धाम से शिवरात्रि की तैयारी में लगे हुए है। देशभर के सभी शिव मंदिरों में धूम मची हुई है। विशेष बात यह… Read more »

जानिए आखिर क्या है बसंतोत्सव / बसंत पर्व / “बसंत पंचमी” अथवा मधुमास पर्व ….

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को बसंत पंचमी कहा जाता है। माना जाता है कि विद्या, बुद्धि व ज्ञान की देवी सरस्वती का आविर्भाव इसी दिन हुआ था। इसलिए यह तिथि वागीश्वरी जयंती व श्री पंचमी के नाम से भी प्रसिद्ध है। ऋग्वेद के 10/125 सूक्त में सरस्वती देवी के असीम प्रभाव व… Read more »

मर्यादा महोत्सव है तेरापंथ का महाकुंभ मेला

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

153वें मर्यादा महोत्सव- 3 फरवरी, 2017 – ललित गर्ग भारत की वसुंधरा ऋषिप्रधान है। भारतीय संस्कृति में दो प्रकार की पद्धतियों का प्रचलन हैµ एक है श्रमण संस्कृति, और दूसरी है वैदिक संस्कृति। दोनों ही संस्कृतियों में अनेक पर्व, उत्सव मनाए जाते है। पर्व, उत्सव क्यों मनाए जाते है? क्योंकि इन उत्सवों के माध्यम से… Read more »