व्यापम – न्याय अन्याय से परे एक मौलिक प्रश्न

Posted On by & filed under विविधा

डॉ नीलम महेंद्र ‘व्यापम’ अर्थात व्यवसायिक परीक्षा मण्डल, यह उन पोस्ट पर भर्तियाँ या एजुकेशन कोर्स में एडमिशन करता है जिनकी भर्ती मध्यप्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन नहीं करता है जैसे मेडिकल इंजीनियरिंग पुलिस नापतौल इंस्पेक्टर शिक्षक आदि। साल भर पूरी मेहनत से पढ़कर बच्चे इस परीक्षा को एक बेहतर भविष्य की आस में देते हैं।… Read more »

यह दक्षिण एशिया की सदियों पुराने सोच पर हमला है

Posted On by & filed under विविधा

जावेद अनीस सूफियों ने हमेशा से ही प्यार और अमन की तालीम दी है, सदियों से उनकी दरगाहें इंसानी मोहब्बत और आपसी भाईचारे का सन्देश देती आई हैं. दक्षिण एशिया के पूरे हिस्से की भी यही  पहचान रही है जहाँ विभिन्न मतों और संस्कृतियां एक साथ फले फूले हैं. आज भी उनके दर मिली जुली… Read more »

अदालतों से अंग्रेजी को भगाओ

Posted On by & filed under विधि-कानून, विविधा

कानून और न्याय की संसदीय कमेटी ने बड़ी हिम्मत का काम किया है। उसने अपनी रपट में सरकार से अनुरोध किया है कि वह सर्वोच्च और उच्च न्यायालयों में भारतीय भाषाओं के प्रयोग को शुरु करवाए। उसने यह भी कहा है कि इसके लिए उसे सर्वोच्च न्यायालय की अनुमति या सहमति की जरुरत नहीं है,… Read more »

अंग्रेजी वर्चस्व के चलते संकट में आईं मातृभाषाएं

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, विविधा

संदर्भः 21 फरवरी अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर विषेश- प्रमोद भार्गव यह एक दुखद समाचार है कि अंग्रेजी वर्चस्व के चलते भारत समेत दुनिया की अनेक मातृभाषाएं अस्तित्व के संकट से जूझ रही हैं। जबकि राष्ट्र संघ द्वारा अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस की घोषणा का प्रमुख उद्देश्य था कि विश्व में लुप्त हो रहीं भाषाएं सरंक्षित हों,… Read more »

मांसाहारी भारत?

Posted On by & filed under विविधा

दुनिया में सबसे ज्यादा शाकाहारी किस देश में रहते हैं? जाहिर है कि भारत में रहते हैं। दुनिया का कोई देश ऐसा नहीं हैं, जिसके लाखों-करोड़ों नागरिकों ने अपने जीवन में मांस, मछली, अंडा जैसी कोई चीज़ कभी खाई ही नहीं। दुनिया का ऐसा कौन सा देश है, जिसमें इन पदार्थों को ‘अखाद्य’ (न खाने… Read more »

कुवानो नदी और अमहट पुल की व्यथा

Posted On by & filed under विविधा

डा. राधेश्याम द्विवेदी कुवानो नदी का दर्द : – कुवानों का उद्गम कोई पहाड़ ना होकर कुंवा है। इसे कूपवाहिनी भी कहते हैं। यह बहराइच जिले के पूर्वी निचले भाग से प्रारम्भ होकर गोण्डा के बीचोबीच होकर रसूलपुर में बस्ती मण्डल को स्पर्श करती है। यह बस्ती पूर्व, बस्ती पश्चिम, नगर पश्चिम, नगर पूर्व, महुली… Read more »

कश्मीरी पत्थरबाजों को सेनाध्यक्ष का संदेश

Posted On by & filed under विविधा

प्रमोद भार्गव कश्मीर में एक बार फिर पत्थरबाज युवाओं ने सेना एवं अन्य सुरक्षा बलों पर पत्थर बरसाना शुरू कर दिए हैं। इस तरह की राष्ट्रविरोधी हरकतों से खफा होकर थल सेना अध्यक्ष विपिन रावत ने कड़ा संदेश देते हुए कहा है, जो लोग पाकिस्तान और आईएस के झंडे लहराने के साथ सेना की कार्यवाही… Read more »

अरुणाचल प्रदेश के आंचल में खुशबू खज़ाना

Posted On by & filed under विविधा

उगते सूरज का प्रदेश, सर्वाधिक क्षेत्रीय बोलियों वाला प्रदेश, भारत के तीसरा विशाल राष्ट्रीय पार्क (नाम्दाफा नेशनल पार्क ) वाला प्रदेश जैसे भारतीय स्तर के कई विशेषण अरुणाचल प्रदेश के साथ जुडे़ हैं, लेकिन अरुणाचल प्रदेश के लिए जो विशेषण सबसे खास और अनोखा है, वह है, यहां उपलब्ण्ध सबसे अधिक आॅर्चिड विविधता। आॅर्चिड –… Read more »

आसमां में लिखा गया नया इतिहास

Posted On by & filed under टेक्नोलॉजी, विविधा

भारतीय वैज्ञानिकों ने अपने अद्भुत कलात्मक अभिव्यक्ति का लोहा पेश करते हुए एक कीर्तिमान स्थापित किया, जो विश्व इतिहास में शक्तिशाली होने वाले राष्ट्र ने नहीं किया था। अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से एकसाथ 104 सैटेलाइट को सफलता पूर्वक लॉन्च करने के साथ… Read more »

बिहार:प्रशंसा के पात्र बनें बदनामी के नहीं

Posted On by & filed under विविधा

निर्मल रानी बिहार देश के प्रतिभा संपन्न राज्यों में सबसे समृद्ध राज्य गिना जाता है। विश्व को अंकगणित में संपूर्णता प्रदान करने वाले गुप्तकाल के महान गणितज्ञ आर्यभट से लेकर महान तर्कशास्त्री वात्स्यायन तक तथा दसवें सिख गुरु गोविंद सिंह से लेकर मुगल शहंशाह शेरशाह सूरी जैसे शासक की जन्मभूमि बिहार ही रही है। साहित्य… Read more »