भारतीय नौजवानों में जहर घोलता आईएस

Posted On by & filed under समाज

संजय द्विवेदी समूची मानवता के लिए खतरा बन चुके खूंखार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के प्रति भारतीय युवाओं का आकर्षण निश्चित ही खतरनाक है। कश्मीर से लेकर केरल और अब गुजरात में दो संदिग्धों की गिरफ्तारी चिंतनीय है ही। आखिर आईएस के विचारों में ऐसा क्या है कि भारतीय मुस्लिम युवा अपनी मातृभूमि को छोड़कर,… Read more »

कितना असाधारण अब सौ फीसदी कुदरती हो जाना

Posted On by & filed under जन-जागरण, महत्वपूर्ण लेख, समाज

परिस्थिति के हिसाब से किसानों के तर्क व्यावहारिक हैं। उनकी बातों से यह भी स्पष्ट हुआ कि वे केचुंआ खाद, कचरा कम्पोस्ट आदि से परिचित नहीं है। गोबर गैस प्लांट उनकी पकड़ में नहीं है। हरी खाद पैदा करने के लिए हर साल जो अतिरिक्त खेत चाहिए, उनके पास उतनी ज़मीन नहीं है। ज़िला कृषि कार्यालय के अधिकारी-कर्मचारी गांव में आते-जाते नहीं। सच यही है कि जैविक खेती के सफल प्रयोगों की भनक देश के ज्यादातर किसानों को अभी भी नहीं है।

फिल्म ‘रंगून” की समीक्षा

Posted On by & filed under मनोरंजन, समाज, सिनेमा

रेटिंग: 3/5 स्टार स्टार कास्ट:— सैफ अली खान, शहीद कपूर, कंगना रनावत निर्देशक-संगीत:– विशाल भारद्वाज निर्माता :—- विशाल भारद्वाज, साजिद नाडियाडवाला बैनर :— वायकॉम 18 मोशन पिक्चर्स, विशाल भारद्वाज पिक्चर्स प्रा.लि., नाडियाडवाला ग्रैंडसन एंटरटेनमेंट मूवी टाइप: रोमांटिक ड्रामा अवधि:– 2 घंटा 44 मिनट सेंसर सर्टिफिकेट : — यूए * 2 घंटे 48 मिनट विशाल भारद्वाज… Read more »

शादियां: कश्मीर दिखा रहा रास्ता

Posted On by & filed under समाज

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने वह कर दिखाया है, जो देश के हर मुख्यमंत्री को करना चाहिए। शादियों में होने वाले अनाप-शनाप खर्च पर रोक लगाने का जो विधेयक संसद में आ रहा है, उस पर मुहर लगे या न लगे लेकिन हर प्रदेश की सरकार चाहे तो वह ऐसे कड़े कानून बना सकती… Read more »

टूटती परम्पराए बदलता समाज———————

Posted On by & filed under समाज

प्रदीप रावत किसी भी समाज का अतीत उसकी आने वाली पीढ़ी के लिए प्रेरणादायी रहता है। मुझे आज भी याद है बचपन में गाँव के बूढे लोग एक जगह पर इकठ्ठा होकर चर्चाएं करते थे और मनोरंजन के लिए गाँव में रामलीला . पांडव नृत्य व अन्य धर्मिक आयोजन किये जाते थे ।परस्पर लोग मेल… Read more »

बृहत्तर भारत का गौरवमय अतीत

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, समाज

भारत की संस्कृति :- भारत की संस्कृति कई चीज़ों को मिला-जुलाकर बनती है जिसमें भारत का लम्बा इतिहास, विलक्षण भूगोल और सिन्धु घाटी की सभ्यता के दौरान बनी और आगे चलकर वैदिक युग में विकसित हुई, बौद्ध धर्म एवं स्वर्ण युग की शुरुआत और उसके अस्तगमन के साथ फली-फूली अपनी खुद की प्राचीन विरासत शामिल… Read more »

रिजिजू के ट्वीट से उजागर होता सत्‍य

Posted On by & filed under समाज

डॉ. मयंक चतुर्वेदी केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू हिन्‍दू आबादी कम होने संबंधी एक ट्वीट क्‍या कर दिया, स्‍वयं को सेक्‍युलर कहने वालों की भीड़ एक साथ उनको कठघरे में खड़ा करने में लग गई । उसमें भी आश्‍चर्य तब अधिक हुआ, जब एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन औवेसी जैसे घोर सान्‍प्रदायिक यह कहते हैं कि… Read more »

शादी को तमाशा न बनाएं!

Posted On by & filed under विधि-कानून, समाज

कांग्रेस की सांसद श्रीमती रंजीत रंजन एक ऐसा विधेयक पेश कर रही हैं, जो अगर कानून बन गया तो सारे देश का बड़ा लाभ होगा। यह ऐसा कानून बनेगा, जिससे सभी जातियों, सभी मजहबों और सभी प्रांतों के लोगों को लाभ मिलेगा। यह विधेयक शादी में होने वाले अनाप-शनाप खर्चे पर रोक लगाने की मांग… Read more »

अरुणाचल प्रदेश में घटती हिन्दू आबादी

Posted On by & filed under राजनीति, समाज

केन्द्रीय मंत्री ने जो कहा, सच कहा – लोकेन्द्र सिंह अरुणाचल प्रदेश में हिंदू जनसंख्या के सन्दर्भ में केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू के बयान पर कुछ लोग विवाद खड़ा करने का प्रयास कर रहे हैं। जबकि उनका बयान एक कड़वी हकीकत को बयां कर रहा है। आश्चर्य की बात यह है कि उनके बयान पर… Read more »

आरक्षण का अनचाहा पहलू: एक विचार-प्रवर्तक टिप्पणी

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, समाज

डॉ. मधुसूदन (एक) सारांश: अपनी टिप्पणी में, पिछडे समाज का,एक टिप्पणीकार अपना अनुभव बताता है; ==> ***आरक्षण के कारण समाजपर होनेवाले मानसिक दुष्परिणाम*** ***सभी से बुरा है, आरक्षित समाज में, हीन ग्रंथि का उदय*** ***और समग्र देश में फैलती परस्पर अलगाव की भावना*** अंत में टिप्पणीकार अपना निश्चय व्यक्त करता है: ***इस लिए, आरक्षण की… Read more »