बैकफूट पर पाक सरकार और उसकी विदेश नीति

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

साल 2016 भारतीय विदेश नीति और खासकर पाकिस्तान के साथ संबंध के हवाले से काफी तल्खी और उतार चढ़ाव वाला रहा। पिछले साल  जब प्रधानमंत्री मोदी ने अफगानिस्तान से लौटकर पाकिस्तान जाने का फैसला किया था तो इसे भारत-पाक रिश्तों के लिहाज से ऐतिहासिक फैसला माना गया। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष को उनके… Read more »

पाकिस्तान पर अमेरिका की दोहरी नीति

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

डॉ. मयंक चतुर्वेदी पाकिस्तान कई वर्षों से लगातार आतंकवाद को प्रश्रय दे रहा है, यह बात आज विश्व जानता है, ऐसे में यह कहना बिल्कुल गलत होगा कि अमेरिका से यह बात छिपी हुई है, किंतु उसके बाद भी अमेरिका आतंकवाद को समाप्त करने एवं अन्य सामाजिक व्यवस्था में सुधार के नाम पर लगातार पाकिस्तान… Read more »

कुछ चर्चा कुछ कुचर्चा ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप के …

Posted On by & filed under विश्ववार्ता, शख्सियत

मॉडल्स को भी मात देती है इवांका की खूबसूरती lइवांका यूं तो मॉडल नहीं है लेकिन उनके फोटोग्राफ्स इतने आकर्षक और खूबसूरत है कि उन्हें देख कर अच्छी-अच्छी मॉडल्स भी मात खा जाएं। इस पर इवांका का ड्रेसिंग सेंस उन्हें एक अलग ही सोफिस्टिकेटेड लुक देता है जिसके चलते विरोधियों को भी तारीफ करने के लिए मजबूर होना पड़ता है।

जाॅन की ने रचा पद त्याग का नया अध्याय

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

न्यूजीलैंड के लोकप्रिय प्रधानमंत्री जॉन की ने अपने पद से इस्तीफा देकर दुनिया को चैंका दिया है। आठ वर्षों के कार्यकाल के बाद एकाएक अपने पद से मुक्त होने का चिन्तन ही आश्चर्यकारी होने के साथ-साथ राजनीति की एक ऐतिहासिक एवं विलक्षण घटना है। आज जबकि समूची दुनिया के राजनीति परिदृश्य में सत्ता लोलुपता एवं पदलिप्सा व्याप्त है, प्रधानमंत्री तो क्या, कोई सांसद, विधायक एवं पार्षद भी स्वेच्छा से अपना पद-त्याग नहीं करता है।

कौन सुनेगा बांग्लादेशी हिंदुओं की आवाज ?

Posted On by & filed under विविधा, विश्ववार्ता

भारत की राजनीति अल्पंख्यकवाद पर टिकी हुई है। लोकसभा व विधानसभा चुनाव आते ही सभी दल अल्पसंख्यकों के हितों को पूरे जोर शोर से उठाने लग जाते हैं। अल्पंसख्यकों के मुददे उठाते समय इन सभी दलों को देशहित व समाजहित की कतई चिंता नहीं रहती है। लेकिन जब हमारे ही पड़ोसी देश बांग्लादेश वा पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू अल्पंसख्यकों पर अत्याचार होते हैं तब कोई अल्पसंख्यकवादी नेता, बुद्धिजीवी व मानवाधिकारी उनके हितों की रक्षा करने के लिए आगे नहीं आता।

ट्रंप की जीत का संदेश ?

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

तनवीर जाफ़री अमेरिका में पिछले दिनों हुए राष्ट्रपति के चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनल्ड ट्रंप ने अपनी प्रतिद्वंद्वी डेमोक्रेटिक पार्टी की मज़बूत उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को पराजित कर राष्ट्रपति पद का चुनाव जीत लिया। हालांकि अमेरिका में रिपब्लिकन अथवा डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार पहले भी एक-दूसरी पार्टी के उम्मीदवारों को पराजित कर राष्ट्रपति… Read more »

ट्रंप की जीत और भारत

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

कोई आश्चर्य नहीं कि नए ट्रंप-प्रशासन में कुछ सुयोग्य भारतीयों को प्रभावशाली पद भी मिलें। ट्रंप के भारतवंशी समर्थकों का प्रभाव उन्हें भारत की तरफ जरुर झुकाएगा। तीसरा, ट्रंप ने आतंकवाद के खिलाफ जितने जबर्दस्त बोल बोले हैं, आज तक किसी अमेरिकी राष्ट्रपति ने नहीं बोले हैं। यदि ट्रंप अपनी बात पर टिके रहे तो वे विश्व में फैले हुए आतंकवाद का समूलनाश करने में कसर उठा न रखेंगे।

डोनल्ड ट्रंप के नेतृत्व मे अमेरिका बनेगा भारत का अहम साझेदार 

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

डोनल्ड ट्रम्प ने अपने प्रचार अभियान के दौरान पाकिस्तान के प्रति भी अपना कड़ा रुख दिखाया था। उन्होंने पाकिस्तान के परमाणु हथियारों को लेकर चिंता जाहिर करते हुए कहा था कि पाकिस्तान एक अस्थिर देश है और वहां मौजूद परमाणु हथियारों से पूरी दुनिया खतरे में है। ट्रम्प ने कहा था कि पाकिस्तान ने 9/11 के बाद अमेरिका को कई बार धोखा दिया है। उन्होंने अपने राष्ट्रपति बनने पर पाकिस्तान को हर गलती के लिए सजा देने की बात भी कही थी।

एफबीआई जांच मामले में हिलेरी को बड़ी राहत

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

इस सब के बावजूद राष्ट्रपति पद की इस दौड़ में भारतवंशीयों की अहम् भूमिका रहने वाली है। भारतीय मतदाता फ्लोरिडा, ओहियो और कोलोराडो जैसे बड़े व महत्वपूर्ण राज्यों में हवा बदलने की सामर्थ्य रखते है। इन राज्यों में भारतीय-अमेरिकन मतदाताओं का प्रतिषत 30 से 40 है, जो हिलेरी और ट्रंप दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। दरअसल ट्रंप पूरी तरह गैरराजनीतिक पृष्ठभूमि से है।

अक्साई चीन: भारत-चीन सीमा विवाद की जड़

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

वह रेखा जो भारतीय कश्मीर के क्षेत्रों को अक्साई चिन से अलग करती है ‘वास्तविक नियंत्रण रेखा’ के रूप में जानी जाती है। अक्साई चीन भारत और चीन के बीच चल रहे दो मुख्य सीमा विवाद में से एक है। चीन के साथ अन्य विवाद अरुणाचल प्रदेश से संबंधित है। अमेरिकी राजदूत के अरुणाचल दौरा पर विवाद:-चीन ने 24 अक्टूबर2016 को अमेरिका को चेतावनी दी कि चीन-भारत सीमा विवाद में उसका कोई भी हस्तक्षेप इस विषय को ‘और भी पेचीदा’ बनाएगा और सीमा पर कड़ी मेहनत से हासिल की गई शांति में खलल डालेगा।