ऐतिहासिक है केंद्र सरकार की नई स्वास्थ्य नीति

Posted On by & filed under जन-जागरण, राजनीति

सरकार ने अपनी नई नीति में कई रोगों के उन्मूलन का भी लक्ष्य रख लिया है। जिसमें 2018 तक देश से कुष्ठ रोग की समाप्ति , वर्ष 2017 तक कालाजार और वर्ष 2017 तक ही लिम्फेटिक फाइलेरियसस का उन्मूलन करने की बात कही गयी है। इसके साथ ही क्षय रोगियों में 85 प्रतिशत से अधिक इलाज दर प्राप्त करने पर जोर दिया गया है। ताकि वर्ष 2025 तक इसका उन्मूलन किया जा सके।

आइये जाने होली खेलने के दौरान क्या रखें सावधानी…

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, जन-जागरण, धर्म-अध्यात्म

होली रंगों का त्योहार है जो भारत में हिन्दु धर्म के लोग हर साल बड़ी धूमधाम से मनाते है | ये पर्व हर साल वसंत ऋतु के समय फागुन (मार्च) के महीने में आता है | भारत पहले से ही कला और संस्कृति के क्षेत्र में अग्रणी रहा हैं अगर भारतीय समाज के त्यौहार की… Read more »

रामजस पर हल्ला, केरल पर चुप्पी क्यों?

Posted On by & filed under जन-जागरण, विविधा

लोकेन्द्र सिंह   रामजस महाविद्यालय प्रकरण से एक बार फिर साबित हो गया कि हमारा तथाकथित बौद्धिक जगत और मीडिया का एक वर्ग भयंकर दोगला है। एक तरफ ये कथित धमकियों पर भी देश में ऐसी बहस खड़ी कर देते हैं, मानो आपातकाल ही आ गया है, जबकि दूसरी ओर बेरहमी से की जा रही… Read more »

कितना असाधारण अब सौ फीसदी कुदरती हो जाना

Posted On by & filed under जन-जागरण, महत्वपूर्ण लेख, समाज

परिस्थिति के हिसाब से किसानों के तर्क व्यावहारिक हैं। उनकी बातों से यह भी स्पष्ट हुआ कि वे केचुंआ खाद, कचरा कम्पोस्ट आदि से परिचित नहीं है। गोबर गैस प्लांट उनकी पकड़ में नहीं है। हरी खाद पैदा करने के लिए हर साल जो अतिरिक्त खेत चाहिए, उनके पास उतनी ज़मीन नहीं है। ज़िला कृषि कार्यालय के अधिकारी-कर्मचारी गांव में आते-जाते नहीं। सच यही है कि जैविक खेती के सफल प्रयोगों की भनक देश के ज्यादातर किसानों को अभी भी नहीं है।

गृह कलह रोकेंगे ये उपाय—

Posted On by & filed under जन-जागरण, ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म

सामजिक व्यवस्था में घर-परिवार का अपना महत्व है, जहां सभी सदस्य मिल-जुलकर रहते हैं तथा एक-दूसरे की भावनाओं का सम्मान करते हुए भरण-पोषण की जिम्मेदारी निभाते हैं। परिवार में बने रिश्तों की डोर बड़ी नाजुनिवारण क होती है, एकता प्रेम और स्नेह भाव बनाए रखने के प्रयास के बावजूद कई बार छोटी-छोटी बातों को लेकर… Read more »

ज्योतिष में पेड़-पौधों की उपयोगिता

Posted On by & filed under जन-जागरण, ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म

पर्यावरण को हरा-भरा और प्रदूषण मुक्त बनाये रखने में वृक्षों का महत्वपूर्ण योगदान है। एक वृक्ष सौ पुत्रों से भी बढ़कर है क्योंकि वह जीवन भर अपने पालक को समान एवं निःस्वार्थ भाव से लाभ पहुंचाता रहता है। भविष्य पुराण के अनुसार संतानहीन मनुष्य द्वारा लगाया गया वृक्ष लौकिक और पारलौकिक कर्म करता है। लोमेश… Read more »

जानिए चंद्र नमस्कार के लाभ

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, जन-जागरण, धर्म-अध्यात्म

सूर्य नमस्कार आसन के बारे में आपको तो पता ही होगा। अब हम बात कर रहे हैं चंद्र नमस्कार के बारे में। यह आसन इंसान को उर्जा देता है। चंद्र नमस्कार को केवल पंद्रह से दस मिनट तक करने से इंसान को कई तरह के फायदे मिलते हैं जैसे शरीर में उर्जा का आना, कल्पनाशक्ति… Read more »

राम जन्मभूमिः एक नया सपना

Posted On by & filed under जन-जागरण, विविधा

मेरे पिछले दो-तीन दिन पुणे में गुजरे। इन दो-तीन दिनों में हम एक सपना देखते रहे। दिन में सपना! यह सपना था- अयोध्या के राम मंदिर के बारे में। बाबरी मस्जिद के बारे में। 60 एकड़ के राम जन्म भूमि परिसर के बारे में। यह सारा मामला दशकों से अदालत में अटका हुआ है। ऐसा… Read more »

कुष्ठ रोग पीड़ितों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के प्रयास की जरूरत

Posted On by & filed under जन-जागरण, विविधा, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

कुष्ठ रोग निवारण दिवस, 30 जनवरी 2017 पर विशेष कोढ़ को ही कुष्ठ रोग कहा जाता जो कि एक जीवाणु रोग है। यह एक दीर्घकालिक रोग है जो कि माइकोबैक्टिरिअम लेप्राई और माइकोबैक्टेरियम लेप्रोमेटॉसिस जैसे जीवाणुओं कि वजह से होती है। कुष्ठ रोग के रोगाणु कि खोज 1873 में हन्सेन ने की थी, इसलिए कुष्ठ… Read more »

भारत की आबादी में मुसलमानों का अनुपात: एक विश्लेषण

Posted On by & filed under जन-जागरण, राजनीति

भारत में राज्य स्तर पर जनसंख्या के अनुपात में सबसे ज़्यादह 68.31% प्रतिशत मुसलमान जम्मू-कश्मीर में आबाद हैं। इसके विपरीत राज्य स्तर पर ही सबसे कम मिजोरम में 1.35% मुसलमान हैं। दूसरी ओर असम, पश्चिम बंगाल और केरल में 25% प्रतिशत से अधिक मुसलमान रहते हैं। वहीं 15 से 20% प्रतिशत वाले राज्य, बिहार और… Read more »