धरा को बचाने का संघर्ष कर रहे हैं आदिवासी

Posted On by & filed under पर्यावरण, समाज, सार्थक पहल

विगत 100 वर्षों में विकास की सबसे ज्यादा कीमत किसी ने चुकाई है तो वे आदिवासी हैं। किसी को उसके घर से विस्थापित कर दिया जाए, उसकी आजीविका के जरिये छीन लिए जाएं और उसकी पहचान बदल कर इस धर्म या उस धर्म की बना दी जाए तो उससे दुर्भाग्यशाली भला और कौन होगा? आदिवासी… Read more »

पलायन को आईना दिखाती पहाड़ की महिला

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

पंकज सिंह बिष्ट आज जहाँ एक तरफ पहाड़ के लिए पलायन श्राप बना हुआ है। जिसे रोकना सरकार के लिए एक चुनौती है। ऐसे में इसी पहाड़ की महिलायें अपना उद्यम स्थापित कर स्वरोजगार को अपना रही हैं। यह उन युवाओं को भी एक नई राह और एक नई दिशा दिखाने का काम कर रही… Read more »

आरती का दम, बेटी नहीं हुनर में कम

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

हेमेन्द्र क्षीरसागर एक जमाना था जब बेटियों को घर की चार दीवारियों में कैद रखकर चुल्हा-चक्की तक सीमित रखा जाता था, पढाई-लिखाई तो उनके लिए दूर की कौडी थी। धीरे-धीरे समय ने करवट बदली और बेटियां बेटों के साथ पढने लगी। यहां तक तो सब कुछ ठीक-ठाक चला किन्तुु कौशलता, कारीगिरी तथा तकनीकी दक्षता के… Read more »

शुद्ध पियो शुद्ध जियो

Posted On by & filed under खेत-खलिहान, जन-जागरण, समाज, सार्थक पहल

सरस्वती अग्रवाल “शद्ध पियो- शुद्ध जियो” ये लाईन किसी उत्पाद के विज्ञापन की नही बल्कि ये वाक्य है उत्तराखण्ड के राज्य जनपद चमोली के गडोरा गांव के 38 वर्षिय निवासी लक्ष्मण सिंह का। जो फलो का जूस बेचकर परिवार चला रहे हैं। इन्होने 12वीं तक पढ़ाई की है। 3 बेटियों- एक बेटे तथा पत्नी को मिलाकर परिवार… Read more »

40 सालों से समाज की प्यास बुझा रहा है, जिले सिंह

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

ललित कौशिक पश्चिम की आबोहवा में सब कुछ बहता जा रहा है, इस बहतेपन को ही लोगों ने जिंदगी समझ लिया है, जिस किसी से बात करें या बात नहीं भी करे तो उसको अपने लिए एक शब्द बहुत ही प्रिय लगता है, वो है ‘समाजसेवी’ (social worker) लेकिन ये समाज सेवी सेवा के बदले… Read more »

बीड़ी ही बना जीने का सहारा।

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

निकहत प्रवीन बड़ा बेटा उसके बगल में बैठा था और छोटे बेटे को गोद में लिए, सिर झुकाए वो लगातार बीड़ी बनाए जा रही थी। आप कब  से इस काम को कर रही हैं? और कोई काम क्यों नही करती? कई बार पूछने पर उसने डबडबाती आंखो और लड़खड़ाती जुबान से जवाब दिया “बचपन से”। ये कहानी है बिहार… Read more »

इन्ही हाथों से तकदीर बना लेंगे

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

मोहम्मद अनीस उर रहमान खान असफल और मेहनत से परहेज़ करने वाले लोगों के मुंह से सामान्यता: यह वाक्य सुना जाता है कि “भाग्य में ही लिखा था तो क्या करें”। लेकिन समय बदल रहा है और यह वाक्य भी व्यर्थ होता नजर आता है क्योंकि अब लोगों ने अपनी किस्मत पर कम और मेहनत पर अधिक  भरोसा करना… Read more »

‘चिराग का रोजगार’ एक सार्थक पहल

Posted On by & filed under विविधा, सार्थक पहल

हाल ही में दिल्ली एक बडे़ समारोह में चिराग पासवान ने अपनी इस बहुआयामी एवं मूच्र्छित होती युवा चेतना में नये प्राण का संचार करने वाली योजना को लोकार्पित किया। रोजगार के लिये सरकार पर निर्भरता को कम करने के लिये उन्होंने बड़े आर्थिक-व्यापारिक घरानों एवं बेरोजगार युवकों के बीच सेतु का काम करने की ठानी है। वोट की राजनीति और सही रूप में सामाजिक उत्थान की नीति, दोनों विपरीत ध्रुव है। लेकिन चिराग ने इन विपरीत स्थितियों में सामंजस्य स्थापित करके भरोसा और विश्वास का वातावरण निर्मित किया है।

भारत और इजराइल के रिश्तेः संस्कृति के दो पाट

Posted On by & filed under राजनीति, सार्थक पहल

-संजय द्विवेदी इजराइल और भारत का मिलन दरअसल दो संस्कृतियों का मिलन है। वे संस्कृतियां जो पुरातन हैं, जड़ों से जुड़ी है और जिन्हें मिटाने के लिए सदियां भी कम पड़ गयी हैं। दरअसल यह दो विचारों का मिलन है, जिन्होंने इस दुनिया को बेहतर बनाने के लिए सपने देखे। वे विचार जिनसे दुनिया सुंदर बनती… Read more »

केन्द्र की सख्ती और कालेधन पर लगाम

Posted On by & filed under राजनीति, सार्थक पहल

सुरेश हिन्दुस्थानी अभी हाल ही में स्विस बैंक द्वारा जारी किए गए कालेधन के आंकड़ों से यह प्रमाणित हो गया है कि जब से केन्द्र में नरेन्द्र मोदी की सरकार पदारुढ़ हुई है, तब से कालेधन में कमी आई है। हालांकि कालेधन के मामले को लेकर देश की विपक्षी राजनीति, केन्द्र सरकार पर निशाना साधने… Read more »