खाताधारकों से हो रही ठगी के ज़िम्मेदार बैंक क्यों नहीं?

Posted On by & filed under आर्थिकी, विविधा

निर्मल रानी जहां एक ओर सरकार द्वारा नागरिकों को इस बात के लिए प्रेरित किया जाता है कि वे अपना धन संग्रह बैंकों अथवा डाकघरों में ही करें वहीं आम नागरिक भी अपने धन व जमापूंजी की सुरक्षा तथा उसपर मिलने वाले ब्याज की ख़ातिर अपने पैसों को बैंकों अथवा डाकघरों में रखना ही पसंद… Read more »