बड़े बुजुर्गों के चरणों में

जब से हुई दोस्ती उसकी

मच्छरजी के साथ

मक्खी उससे हर दिन करती

मोबाईल पर बात।

हाय हलो करते करते

वह हँसती जाती है

कहती है कि मच्छर भैया

आओ मेरे पास।

दोनों खूब करेंगे मस्ती

नाचें गायेंगे

घर से बाहर आज गई है

मेरी बूढ़ी सास।

मच्छर बोला सासु की

इज्जत करना सीखो

बड़े बुजुर्गों के चरणों में

दॆवताओं का वास।

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: