लेखक परिचय

मनोज नौटियाल

मनोज नौटियाल

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under गजल.


love in nightमुहोब्बत की भला इससे बड़ी सौगात क्या होगी

जला कर घर खड़ा हूँ मै यहाँ अब रात क्या होगी ||

 

गुनाहों में गिना जाने लगा दीदार करना अब

हसीनो के लिए इससे बड़ी खैरात क्या होगी ||

 

सुबह से शाम तक देखे कई पतझड़ दरीचे में

गरजते बादलों की रात है बरसात क्या होगी ||

 

जरा नजरें मिलाकर बोल दे तू दोस्त है मेरा

बिना जाने तुझे ऐ दोस्त दिल की बात क्या होगी ||

 

मुझे दुःख है तुम्हारे घर बड़े हैं दिल बिकाऊ हैं

मुझे दिल से समझने की तेरी औकात क्या होगी ||

 

जलाते हैं बिना कारण किसी का घर किसी का दर

सियासत दार चिलायें धरम क्या जात क्या होगी||

पसीना खून का करके पिता ने बेटियां ब्याही

जहाँ दूल्हे बिकाऊ हों वहां बारात क्या होगी ||

 

अकेला खेलता शतरंज है जो बंद कमरे में

उसे शै क्या हराएगी , बिशात-ए-मात क्या होगी ||…मनोज नौटियाल

One Response to “मुहोब्बत की भला इससे बड़ी”

  1. mahendra gupta

    मुझे दुःख है तुम्हारे घर बड़े हैं दिल बिकाऊ हैं

    मुझे दिल से समझने की तेरी औकात क्या होगी ||

    फिर कैसा गिला, कैसा शिकवा.बिकनेवालों का कोई ईमान नहीं होता.अच्छी प्रस्तुति

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *